Live Cities Exclusive : लोजपा सांसद प्रिंस राज का कबूलनामा… स्वाति पटेल के साथ था मेरा फिजिकल रिलेशन, बहक गया था मैं; देखें वीडियो

लाइव सिटीज, पटना : लोजपा (LJP) में मचे सियासी घमासान के बीच लोजपा सांसद प्रिंस राज (Prince Raj) और पार्टी की पूर्व नेत्री स्वाति पटेल (Swati Patel) का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. स्वाति पटेल के कबूलनामे के बाद लाइव सिटीज (Live Cities) के हाथ समस्तीपुर के लोजपा सांसद प्रिंस राज यानी प्रिंस पासवान (Prince Paswan) का कबूलनामा हाथ लगा है. प्रिंस राज ने इसी साल फरवरी में दिल्ली के पार्लियामेंट स्ट्रीट थाने (Parliament Street Police Station) में प्राथमिकी दर्ज करायी है. उसमें उन्होंने कबूला है कि हमारा स्वाति पटेल के साथ फिजिकल रिलेशन था. हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि हम बहक गए थे. लेकिन सवाल यह भी उठता है कि जब सांसद बहक जाए तो आम लोगों का क्या होगा.

लाइव सिटीज के हाथ लगे एक्सक्लूसिव रिपोर्ट में चिराग पासवान (Chirag Paswan) के चचेरे भाई व दिवंगत रामचंद्र पासवान (Ramchandra Paswan) के बेटे समस्तीपुर के लोजपा सांसद प्रिंस राज ने कबूल कर लिया है कि वह स्वाति पटेल के साथ एक बार नहीं कई बार सोये थे. पार्लियामेंट स्ट्रीट थाने में दर्ज प्राथमिकी में प्रिंस राज उर्फ प्रिंस पासवान ने कहा है कि वे सांसद हैं. 2019 में पिता रामचंद्र पासवान के निधन के बाद उनके नक्शे कदम पर चलने लगे.

प्रिंस ने अपनी प्राथमिकी में यह भी कहा है कि दिल्ली स्थित सरकारी आवास पर स्वाति पटेल से मुलाकात हुई. उसने सहायता मांगी. इसी दौरान नंबरों का आदान-प्रदान हुआ. पिछले साल जून माह की 16 तारीख को स्वाति पटेल के बुलाने पर मैं उसके घर गया था. हमें लगने लगा कि वह हमें प्यार करने लगी है. इसके बाद हम स्वाति के घर बार-बार जाते रहे. इस दौरान उसके साथ कई बार शारीरिक संबंध भी बने. लेकिन बाद में रिश्ता बिगड़ता चला गया.

लंबे प्राथमिकी में प्रिंस राज ने यह भी कहा है कि लगने लगा कि हम उसके चुुंगल में फंस गए हैं. क्योंकि धीरे-धीरे स्वाति की डिमांड बढ़ने लगी. हमसे डिमांड की जाने लगी. बीच में अमर नाम का लड़का आ गया. उसके फोन नंबर से हमें थ्रेट मिलने लगी. हमें कहा जाने ​लगा कि तुम्हारा हमबिस्तर वाला वीडियो तैयार है. एक करोड़ रुपये दो, वरना सभी वीडियो को सोशल मीडिया पर अपलोड कर देंगे.

गौरतलब है ​कि स्वाति पटेल ने आज ही लाइव सिटीज से एक्सक्लूसिव बातचीत में कहा है कि प्रिंस राज मेरे लिए एमपी नहीं था. वह मेरे घर पर आकर रोता था. मैगी बनाता था. जरूरत पड़ने पर बर्तन तक मांज देता था. रात को घंटों हम दोनों गाड़ी में बैठे रहते थे. वे यहीं पर नहीं रुकी. उन्होंने कहा कि वे मेरे घर भी आते थे. लेकिन, बाद में सब बदल गया. उन्होंने कहा कि बिहार आने पर समस्तीपुर में हुई थी मुलाकात. सबों के सामने खूब हुई थी चिल्ला-चिल्ली. उन्होंने कहा कि पूरे मामले को पशुपति पारस भी सब जानते हैं. वहीं चिराग पासवान ने हमें बदनाम कर दिया.