सीवान से भाकपा-माले के प्रत्याशी अमरनाथ यादव के नॉमिनेशन में पहुंचे दीपांकर भट्टाचार्य

दीपंकर भट्टाचार्य

सीवान, लाइव सिटीज : बिहार की 40 लोकसभा सीटों में से आठ सीटों के लिए छठे चरण में 12 मई को होनेवाले चुनाव के लिए अधिसूचना जारी होते ही नामांकन प्रक्रिया शुरू हो गई है. सीवान में भाकपा माले के प्रत्याशी अमरनाथ यादव ने आज यानि गुरुवार को नॉमिनेशन किया. नामांकन समर्थन में पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य भी पहुंचे.

राष्ट्रीय महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य ने सीवान में सभा किया. इस दौरान उन्होंने कहा कि भाकपा माले की सीधी लड़ाई भाजपा गठबंधन से है. पूरे देश में साम्प्रदायिकता को शिकस्त देना मौजूदा दौर में सबसे जरूरी है. उन्होंने कहा कि सीवान को गोरखपुर कभी भी नहीं बनने दिया जाएगा. बल्कि सीवान के रास्ते ही गोरखपुर को भी ठीक किया जाएगा.

दीपांकर भट्टाचार्य ने इशारों में ही कहा कि सीवान सीट जदयू को ना बल्कि हिन्दू युवा वाहिनी को दिया गया है. उन्होंने कहा कि सीवान संसदीय सीट पर उनकी पार्टी का महागठबंधन से कोई समझौता नहीं है. राजद का मतलब सिर्फ शहाबुद्दीन नहीं है.

भाकपा माले के राष्ट्रीय महासचिव ने कहां की पिछले चुनाव में दिए गए नारे को भूलकर भाजपा इस बार पुलवामा, हिन्दू-मुश्लिम और अली-बजरंग बली के नाम पर वोट मांग रही है. देश के हालात ऐसे हो गए हैं कि भाजपा शाषित राज्य त्रिपुरा में आयोग को 18 अप्रैल को होने वाले चुनाव को स्थगित करना पड़ा है.

ये भी पढ़ें : सीवान: भाजपा सांसद ओमप्रकाश यादव को मिला फोन पर जान से मारने की धमकी

ये भी पढ़ें : सीवान: फंस गए भाजपा के जिलाध्यक्ष मनोज सिंह, बिजनेसमैन की हत्या के आरोप में

बता दें कि सीवान में अमरनाथ यादव की टक्कर JDU की कविता सिंह और RJD की हीना शहाब से होने वाली है. कविता सिंह वर्तमान में दरौंदा से जदयू की विधायक हैं. उनके पति अजय सिंह बाहुबली हैं. अजय सिंह जिले में एंटी-शहाबुद्दीन गुट में रहे हैं. उनकी मां जगमातो देवी भी विधायक रही हैं. जगमातो देवी के निधन होने से खाली हुए सीट पर नवंबर 2011 में हुए उप चुनाव में कविता सिंह ने 52 हजार वोट से जीत दर्ज की थी.

वहीं, हीना शहाब 2009 और 2014 में सीवान से लोकसभा चुनाव लड़ चुकी हैं. दोनों ही बार उन्हें ओम प्रकाश यादव ने हराया था. साल 2009 में अपने पति व सीवान के पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन को सजा होने के कारण चुनाव लड़ीं, जिसमें उन्हें 1.77 लाख वोट मिले. वहीँ 2014 मे भी उन्हें 2.58 लाख के करीब वोट मिले थे.

About परमबीर सिंह 1190 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*