मिथिला और कोसी को जोड़ पीएम ने पुरानी संस्कृति को किया सुदृढ़ : मंगल पांडेय

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने सौगातों की चैथी किस्त में बिहार को रेलवे कनेक्टिविटी के क्षेत्र में 2270 करोड़ की लागत वाली 13 परियोजनाओं का तोहफा देकर बिहार के विकास में नया अध्याय जोड़ने का काम किया है. उन्होंने ऐतिहासिक मिथिला-कोसी रेल मार्ग पर मेगा ब्रिज को साढ़े आठ दशक बाद जनता को समर्पित करने पर प्रधानमंत्री जी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी को साधुवाद देते हुए कहा कि इस पुल के चालू हो जाने से मिथिलाचंल, कोसी और सीमांचल से सीधा जुड़ेगा और इसका लाभ पूर्वोत्तर भारत के कई राज्यों के लोगों को मिलेगा.


 स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि दशकों बाद प्रधानमंत्री जी और मुख्यमंत्री जी ने जहां मिथिला-कोसी को जोड़ कर भूली-बिसरी पुरानी संस्कृति को सुदृढ़ किया है, वहीं पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के साथ-साथ मिथिला और कोसिवासियों के सपनों को साकार करने का काम किया है. पूर्व प्रधानमंत्री और तत्कालीन रेल मंत्री नीतीश कुमार का यह ड्रीम प्रोजेक्ट था और 2003 में अटल जी ने इसका शिलान्यास कर दोनों क्षेत्रों के लोगों में रेल सेवा की आस जगायी थी. उन्होंने कहा कि वर्षों से लंबित पड़ी इन परियोजनाओं का कार्यारंभ होने से न सिर्फ लोगों की यात्राएं बेहतर और सुगम होंगी, बल्कि रोजगार का द्वार खुलेगा और बिहार आत्मनिर्भर की ओर आगे बढ़ेगा.
 



स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि रेलवे क्षेत्र में बिहार निरंतर प्रगति के पथ पर है. रेल लाइनों के दोहरीकरण, स्टेशनों का जीर्णोद्धार एवं विस्तारीकरण की प्रक्रिया जहां तेजी से चल रही है, वहीं ट्रेनों की संख्या बढ़ाने के साथ-साथ यात्री सुविधाओं में भी गुणात्मक सुधार हो रहा है. शुक्रवार को माननीय प्रधानमंत्री ने बिहार में रेलवे से जुड़ी जिन परियोजनाओं का शुभारंभ किया, उससे रेल परिचालन के क्षेत्र में दूरगामी प्रभाव पड़ेगा. बिहार के किसी भी कोने से देश के किसी भी हिस्से में जाने के लिए लोगों को समय भी कम लगेगा और पैसे की भी बचत होगी.