पटना : पुलिसिया फायरिंग में मारे गये युवक के घर पहुंचीं मीसा भारती, तो पता चला नहीं हुआ है FIR

पटना के एतवारपुर गांव में पीड़ित परिवार से मिलतीं मीसा भारती.

लाइव सिटीज फुलवारीशरीफ (अजीत कुमार) : एतवारपुर में जुआ खेल रहे युवक़ों से पुलिस की झड़प और पत्थरबाजी के बाद पुलिस फायरिंग में मारे गए अभिषेक उर्फ चिंटू के परिजनों से मिलने पहुंची राजद की राज्य सभा सांसद डॉ मीसा भारती और बिहार प्रदेश महिला राजद अध्यक्ष आभा लता. उनके सामने पीड़ित परिवार का दर्द छलक उठा. जानकर आश्चर्य लगा कि घटना के दूसरे दिन भी पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज नहीं की थी. तब राज्य सभा सांसद मीसा भारती की पहल व प्रेशर पर परसा बाजार थाने में सोमवार की घटना की प्राथमिकी मंगलवार को दर्ज की गई.

सांसद मीसा भारती ने मृतक के परिजनों मां सुनैना देवी, गर्भवती पत्नी ममता देवी और पिता बालदेव राय से मुलाकात के दौरान भावुक हो गयीं. परिजनों ने सांसद को बताया कि पुलिस ने उनके निर्दोष बेटे की हत्या करके जुल्मोसितम की इन्तेहां कर दी. मृतक की मां और पत्नी सांसद के साथ लिपट कर फूट-फूट कर रोने लगी. सबकी आंखें नम हो गयी थीं. सांसद मीसा ने सभी परिजनों को ढांढस बंधाया और न्याय दिलाने का आश्वासान दिया.

एतवारपुर की दर्जनों महिलाओं ने सांसद को बताया कि घटना के बाद पुलिस फोर्स उनके घरों में घुसकर लाठी-डंडे से बेरहमी पूर्वक पिटाई की. लाठी चार्ज में घायल हुई महिलाओं ने मीसा भारती को अपने अंदरूनी जख्मों को दिखाया. मीसा भारती ने परिजनों से एफआईआर के बारे में जानकारी मांगी तो पता चला उसमें केस नंबर ही नहीं है. इस पर सांसद को शंका हुई कि एफआईआर नहीं हुआ है.

परसा थाने में मीसा भारती की पहल पर हत्या के दूसरे दिन मंगलवार को दर्ज हुई प्राथमिकी.

इसके बाद सांसद डॉ मीसा भारती मृतक अभिषेक के पिता बालदेव राय को लेकर परसा बाजार थाना पहुंच गईं. थाने में सांसद ने पुलिस से पूछा कि एफआईआर अगर हुआ है तो दिखाइए. इस पर कहा गया कि एफआईआर हो गया है. जब सांसद ने पुलिस से एफआईआर नंबर मांगा तो उसके पसीने छूट गए. सांसद ने पुलिस को फटकार लगाते हुए अपने सामने ही एफआईआर दर्ज कराया. इसके बाद पुलिस ने केस नंबर 360/18 अलॉट किया. सांसद ने कहा कि पुलिस झूठ बोल रही थी कि एफआईआर हो गया है. यह गंभीर मामला है. उन्होंने कहा कि पुलिस ने निर्दोष युवक की गोली मारकर हत्या कर दी और बर्बरतापूर्ण कार्रवाई करके महिलाओं तक को जमकर पीटा. इस सरकार में पुलिस बेलगाम हो गयी है.

उन्होंने इस मामले में गोली मारने वाले दरोगा पर सख्त करवाई करने, हत्या की मामला चलाने की मांग भी की है. उन्होंने पुलिसिया कार्रवाई पर सवाल उठाते हुए कहा कि किसके इशारे पर पुलिस ने इतने बड़े कांड में दूसरे दिन भी एफआईआर तक दर्ज नहीं किया था. उन्होंने कहा कि इस घटना में शामिल पुलिसकर्मियों की संलिप्तता की निष्पक्ष जांच कराकर दोषी को कड़ी सजा दी जाए.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*