कांग्रेस को उपेन्द्र कुशवाहा की चिंता, विधायक शकील ने की सुरक्षा बढ़ाने की मांग

upendra-kushwaha1
उपेन्द्र कुशवाहा (फाइल फोटो )

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : पिछले दिनों पटना के डाकबंगला चौराहा पर लाठी चार्ज में घायल हुए रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा को लेकर सियासत लगातार जारी है. सोमवार को जहां कुशवाहा पर हुए लाठीचार्ज के विरोध में बिहार बंद किया गया, वहीं अब महागठबंधन के नेता व कांग्रेस विधायक शकील खान को उपेन्द्र कुशवाहा के जान को लेकर ख़तरा महसूस होने लगा है.

मंगलवार को कांग्रेस के नेता व MLA शकील खान ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि उपेन्द्र कुशवाहा को जान का ख़तरा है. उन्होंने आगे कहा कि केंद्र और राज्य सरकार से मैं उपेन्द्र कुशवाहा की सुरक्षा बढाने की मांग करता हूँ. उन्होंने आगे कहा कि जिस तरीके से कुशवाहा पर हमला हुआ इस बात से ये साबित होता है कि उनकी जान को ख़तरा है, इसलिए उनकी की सुरक्षा जल्द से जल्द बढ़ाई जाए.

पटना मेट्रो : इंतजार की घड़ी समाप्त, 3 मार्च को पीएम नरेंद्र मोदी करेंगे शिलान्यास !

बता दें कि 2 फरवरी को रालोसपा सुप्रीमो उपेन्द्र कुशवाहा अपनी मांगों को लेकर राजभावन मार्च के दौरान पुलिस से हुए झड़प में बुरी तरह से घायल हो गए थे, जिसके बाद उन्हें आनन फानन में पीएमसीएच में भर्ती कराया गया था. इस घटना को लेकर रालोसपा नेताओं ने सरकार के खिलाफ रोष व्यक्त किया और सोमवार 4 फरवरी को बिहार बंद करवाया, जिसमे महागठबंधन के कई दलों ने समर्थन दिया.

बंगाल विवाद पर बोले CJI – CBI के सामने पेश हों कमिश्नर, राजीव कुमार की गिरफ्तारी नहीं होगी

उपेन्द्र कुशवाहा सोमवार को PMCH से बाहर आये और आते ही अपने सभी समर्थकों , साथियों और शुभचिंतकों को अपने साथ खड़े रहने के लिए धन्यवाद ज्ञापित किया. इस दौरान उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट करके सरकार पर निशाना जमकर निशाना साधा.

अस्पताल से घर पहुंच उपेंद्र कुशवाहा ने किया ट्वीट- मारने वाले से बचाने वाले के हाथ लम्बे होते हैं

वहीं दूसरा ट्वीट कर इस इस हमले को जानलेवा बताया. उन्होंने कहा, ‘हमला तो जानलेवा था, परन्तु मारने वाले से बचाने वाले के हाथ लम्बे होते हैं. हृदय से अपने उन साथियों का आभार, जिन्होंने पुलिस की लाठी और मेरे बीच आकर अपने-अपने सर फोड़वा लिए और मेरी जान बचा दी. शेष भगवान का आशीर्वाद और आप सभी की दुआएं काम आ गयी.

About परमबीर सिंह 772 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*