नहीं थम रही बयानबाजी, सच्चिदानंद राय ने कहा – वो करें तो रासलीला हम करें तो कैरेक्टर ढीला

लाइव सिटीज, दिल्ली : भाजपा और जदयू के नेताओं के बीच तल्ख बयानबाजी थमने का नाम नहीं ले रही है. भाजपा के एमएलसी सच्चिदानंद राय बिहार के सीएम नीतीश कुमार को लेकर बड़ा बयान दिया था. जिसके बाद JDU राय पर हमलावर हो गई है. इस दौरान सच्चिदानंद राय ने JDU पर पलटवार करते हुए कि वो करें तो रासलीला हम करें तो कैरेक्टर ढीला.

उन्होंने कहा कि उनके एमएलसी रोज भाजपा के विरोध में बोलते हैं. कभी उनका सचिव हमारे बड़े नेता के खिलाफ बोलता है. वहां तक सब ठीक है. जेडीयू एमएलसी गुलाम रसूल बलियावी ने जो बोला था. वह किसी के आदेश पर ही बोल रहे होंगे. अजय अलोक ने JDU के मनमुताबिक नहीं बोला तो उनसे इस्तीफा ले लिया गया. बलियावी तो रोज भाजपा के खिलाफ बोले जा रहे हैं. इसका मतलब की वे नेतृत्व के इशारे पर बोल रहे हैं. अगर उनके बयान को JDU गलत बताती तो हमको कुछ बोलना ही नहीं पड़ता.

सच्चिदानंद राय ने आगे कहा कि अगर गठबंधन में रह कर एक मित्र दूसरे के खिलाफ बोलता है तो यह ठीक नहीं है. इससे सिर्फ बीजेपी ही प्रभावित नहीं होगी, हमसे ज्यादा वे प्रभावित होंगे.

जदयू नेता केसी त्यागी ने कहा है कि सच्चीदानंद राय पर भाजपा को कार्रवाई करनी चाहिए. इस सवाल पर उन्होंने कहा कि KC त्यागी पहले बलियावी जी पर कार्रवाई करे. तब भाजपा भी मुझ से पूछेगी ? मैंने ऐसा बयान क्यों दिया.

वहीं, सच्चीदानंद राय से जब पूछा गया कि बिहार NDA में क्या नीतीश कुमार सबसे बड़े चेहरे हैं. इस सवाल पर वे भड़क गए उन्होंने कहा कि JDU के कहने से हम मान लेंगे. 16 MP वाली पार्टी और 303 MP वाली पार्टी में बड़ा चेहरा किसका होगा यह बताना पड़ेगा. यह सब को मालूम है.

सच्चिदानंद राय के इस बयान से मचा है घमासान

भाजपा के विधानपार्षद सच्चिदानंद राय ने अब सीएम नीतीश कुमार पर ही बड़ा आरोप लगाया है और कहा है कि उनकी नीयत पर शक होता रहता है.  राय ने कहा कि नीतीश कुमार ने विवादित बयान देने के लिए अपने नेताओं को खुली छूट दे रखी है. नीतीश कुमार तो खुद ही लोकसभा चुनाव के दौरान अपना मतदान करने के बाद विवादित बयान दिया था, उस वक्त उन्हें ये कहने की क्या जरुरत थी कि हम 35A और 370 पर भाजपा के इस मुद्दे का समर्थन नहीं करते?

राय ने कहा के भाजपा के नेता संयमित भाषा का इस्तेमाल करते हैं और जदयू में बलियावी जैसे नेता जिस तरह का बयान देते हैं, उससे तो लगता है कि एेसे नेताओं के सिर पर शीर्ष नेताओं का हाथ रहता है. तभी तो वो एेसे बयान देते हैं. एेसे में अगर गठबंधन टूटता है तो इससे घाटा जदयू को ही होगा.

About परमबीर सिंह 1512 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*