बिहार में बिना मास्क के पकड़े गये 14 हजार से अधिक लोग, राज्य भर में छह हजार 141 वाहन जब्त

लाइव सिटीज, पटना: बिहार में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए लगाये गये पतिबंधों का पालन सख्ती से कराने के लिए तीन दिनों तक पूरे राज्य में विशेष अभियान चलाया जा रहा है. इसके तहत दूसरे दिन पूरे राज्य में 14 हजार 920 लोगों को मास्क नहीं पहनने के कारण कार्रवाई की गयी. 481 वाहनों को भी जब्त किया गया. सभी तरह के नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में 7.46 लाख रुपये जुर्माना के तौर पर वसूला गया.

पुलिस मुख्यालय ने सभी जिलों को पूरी सख्ती के साथ अभियान चलाने के निर्देश दिये गये है. कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कराने के लिए लोगों को पूरी तरह से लागू कराने के लिए कहा गया है. पूरे राज्य में एक से 14 जनवरी तक पूरे राज्य में चलाये जा रहे अभियान के तहत कोरोना नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में आठ लोगों को गिरफ्तारी किया गया है. तीन एफआइआर भी दर्ज हो चुकी है. छह हजार 141 वाहन जब्त किये गये है.

पटना के अस्पतालों की जांच में आठ लोग ऐसे पाये गये, जिन्होने मास्क नहीं लगा रखा था. शुक्रवार को जिला प्रशासन की 47 धावा दल ने चेकिंग की. इस दौरान बिना मास्क लगाये 385 लोगों को पकड़ा गया. इधर, पटना सदर में तीन दुकानों को एसडीओ ने सील कर दिया है. उक्त दुकाने आठ बजे के बाद भी खुली हुई पायी गयी. इसके बाद एसडीओ नवीन कुमार ने कार्रवाई करते हुए उन दुकानों को सील कर दिया है. बारिश होने के कारण गर्दनीबाग स्टेडियम में चल रही मीठापुर सब्जी मंडी बंद हो गयी थी . इसके साथ ही फिर से मीठापुर मे शुरू कर दी गयी थी.

पटना जिले के 15 से 18 आयु वर्ग के सभी बच्चों को टीका दिया जायेगा. एक भी बच्चे नहीं छूटेंगे. बच्चों को टीका लेने की व्यवस्था हर निकटतम टीकाकरण केंद्रों पर कर दी गयी है. इसके साथ ही जिन बच्चों ने अभी टीका नहीं लिया है, उनकी सूची उनके स्कूल के शिक्षकों द्वारा बनायी जा रही है. उक्त सूची प्रधानाचार्य के माध्यम से जिला शिक्षा अधीक्षक तक भेजी जायेगी. जिला शिक्षा अधीक्षक बच्चों की सूची को जिलाधिकारी डॉ चंद्रशेखर सिंह को सौपेंगे.

जिलाधिकारी ने स्पष्ट कर दिया है कि जितने बच्चों के टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है, उसे किसी भी हालत में पूरा करना है. जिलाधिकारी ने यह भी कहा है कि जो बच्चे स्कूल नहीं आ रहे है, उनकी भी सूची बनायी जाये और टीका दिलायी जाये. पटना जिले के 720 स्कूल के चार लाख 93 हजार बच्चों को टीका देने का लक्ष्य रखा गया है.