गर्दनीबाग में गरजे पप्पू, बोले – JDU MLA पप्पू पांडेय हो गिरफ्तार, वरना बंद कर देंगे बिहार

P-Dharna-2
गर्दनीबाग़ में धरनास्थल पर सांसद पप्पू यादव

लाइव सिटीज, पटना : जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्‍ट्रीय संरक्षक सह सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्‍पू यादव ने कहा कि बिहार में कोई काम बिना गुंडा टैक्‍स दिए बिना संभव नहीं है. यही वजह है कि एक कंस्‍ट्रक्‍शन कंपनी के मालिक अखिलेश जायसवाल से जदयू विधायक पप्‍पू पांडे द्वारा पचास लाख रूपए की रंगदारी मांगी जाती है और उन्‍हें जान से मारने की धमकी भी दी जाती है. ये वही पप्‍पू पांडे हैं, जिनपर 75 मुकदमे दर्ज हैं और इनकी सीएम हाउस में भी उठते बैठते हैं. इससे स्‍पष्‍ट होता है कि गुंडा टैक्‍स कहां से वसूला जाता है. इसलिए हम मांग करते हैं कि अविलंब पप्‍पू पांडेय की गिरफ्तारी हो, वरना हम बिहार बंद करेंगे. साथ ही अखिलेश जायसवाल को सरकार सुरक्षा दें, क्‍योंकि हमें उनकी हत्‍या की आशंका है.

सांसद ने उक्‍त बातें आज बिहार में बढ़ते अपराध, सत्ताधारी और विपक्षी विधायकों, नेताओं एवं सत्ता संरक्षित गुंडों द्वारा आम जनों को धमकाये जाने, शोषण करने और कंस्‍ट्रक्‍शन कंपनी के मालिक अखिलेश जायसवाल से सीधे रंगदारी मांगे जाने और महिला उत्‍पीड़न के खिलाफ पटना के गर्दनीबाबाग स्थित धरना स्‍थल पर पटना जिला जन अधिकार पार्टी (लो) द्वारा आयोजित एकदिवसीय धरने को संबोधित करते हुए कहा.

पप्‍पू यादव ने कहा कि पिछले 32 सालों में बिहार से तीन हिस्‍सा व्‍यापारियों को पलायन को मजबूर होना पड़ा. पटना हो लखीसराय या अन्‍य जिला, हर जगह अपराधियों के निशाने पर व्‍यापारी हैं. बावजूद इसके नीतीश सरकार की पुलिस उन्‍हें सुरक्षा देने में नाकाम है. हद तो तब हो जाती है, जब रंगदारी का खेल में सत्ताधारी दल विधायक शामिल हैं. जो सीएम हाउस में बैठ कर रंगदारी मांगते हैं और जान से मारने की धमकी देते हैं.

उन्‍होंने कहा कि हम अखिलेश जायसवाल के हिम्‍मत की कायल हैं, जिन्‍होंने प्रदेश में सत्ता के साये में चल रहे रंगदारी के इस गंदे खेल के खिलाफ आवाज बुलंद की है. यह समस्‍या सिर्फ एक अखिलेश जायसवाल का नहीं है. प्रदेश में एक पप्‍पू पांडेय जैसे अपराधी विधायक मंत्री नहीं है. लेकिन इन अपराधियों के खिलाफ अखिलेश जायसवाल ने जो हिम्‍मत दिखाई है, अगर वे सभी व्‍यापारी दिखाते तो मामला कुछ और होता. पटना विश्‍वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में जदयू नेता प्रशांत किशोर के दखल पर श्री यादव ने कहा कि राजनीति में सबलोग दखल देते हैं. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद सबसे ज्‍यादा गुंडा है और धन-बल से सबको खरीदता है. उससे बड़ा कुकर्मी कौन है. पीके उपाध्‍यक्ष हैं किसी पार्टी के, इवेंट मैनेजर नहीं. वो राजनीति में क्‍या करते हैं उनका मामला है. किसी न किसी रूप में सब यही करते हैं. उन्‍होंने कहा कि छात्रों के हित की बात नीतीश कुमार या विपक्ष के मुंह से शोभा नहीं देती. इन्‍होंने शिक्षा को कोलेप्‍स कर दिया. छात्रों पर लाठी चलवाई जाती है.

इस धरना की अध्‍यक्षता नवल किशोर यादव और संचालन एस डी चौहान ने की. धरना को पार्टी के प्रदेश अध्‍यक्ष अखलाक अहमद, रघुपति प्रसाद सिंह, एजाज अहमद, प्रेमचंद सिंह, राघवेंद्र सिंह कुशवाहा, महताब खान, अकबर अली परवेज, सूर्य नारायण सहनी, मनोज कुमार, जन अधिकार महिला परिषद की ज्‍योति चंद्रवंशी, शीतल गुप, कंचन माला, रेणु जायसवाल, अरूण कुमार सिन्‍हा, जय प्रकाश यादव समेत बड़ी संख्‍या में पार्टी के नेता व कार्यकर्ता उपस्थ्‍िात थे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*