मुजफ्फरपुर: बाढ़ में डूब गया स्कूल, जिला प्रशासन ने सड़क पर लगवा दी क्लास

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार में बाढ़ से करीब 12 जिलों में त्राहिमाम मचा हुआ है. लोग बाढ़ के कारण बेघर हो गए. कई लोगों की मौत हो चुकी हैं. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक बाढ़ की विभीषिका से बिहार के 12 जिले और 55 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हैं.

सड़क पर ही लगा दी क्लास

चमकी बुखार के बाद बिहार के मुजफ्परपुर जिले में बाढ़ ने भी काफी कहर बरपाया है. मुजफ्फरपुर जिले के मीनापुर और कांटी प्रखंड के कई गांव जलमग्न हैं. कई लोग अपना घर छोड़कर राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 77 पर ही शरण लिए हुए हैं. मुजफ्फरपुर के कई स्कूल बाढ़ के पानी डूब गए हैं. ऐसे में जिला प्रशासन ने एक अनूठा कदम उठाया है. बच्चों की पढ़ाई बाधित न हो, इसके लिए जिला प्रशासन ने राहत शिविर में रह रहे बच्चों के लिए सड़क पर ही क्लास लगवा दी.

सामुदायिक रसोई भी चलाई जा रही है

मुजफ्फरपुर के डीएम आलोक रंजन घोष ने बताया कि जिले के कई इलाके बाढ़ में डूब गए हैं. इस कारण स्कूल में पढ़ाई बाधित हो रही है. सड़क पर शरण लिए लोगों में ऐसे कई बच्चे भी हैं जो स्कूल के छात्र हैं. ऐसे में मीनापुर उत्क्रमित मध्य विद्यालय के शिक्षकों ने सड़क पर ही स्कूल शुरू कर दिया है. उन्होंने कहा कि सड़क को एक तरफ से पूरी तरह बंद कर दिया गया है और शिक्षक बच्चों को वहीं पढ़ा रहे हैं. यहां मुख्य रूप से लश्करीपुर और मुस्तफापुर के बच्चे हैं. आपको बता दें कि यहां जिला प्रशासन की तरफ से सामुदायिक रसोई भी चलाई जा रही है.

बाढ़ के कारण बच्चे सड़क पर घूमकर या पानी में खेलकर समय बिता रहे थे. मगर जिला प्रशासन की पहल के बाद अब बच्चे पढ़ाई भी करने लगे हैं. अधिकारियों ने बताया कि अगर बाढ़ का पानी कुछ दिन और रहता है तो और ऊंचे स्थानों पर ऐसी ही व्यवस्था की जाएगी. जिला प्रशासन की ओर से इन बच्चों को चॉकलेट, बिस्कुट, कॉपी-कलम भी मुहैया करवाया जा रहा है. बताया जा रहा है बिहार में यह पहला जिला है, जहां बाढ़ पीड़ित बच्चों को शिविर में पढ़ाया जा रहा है.

जनता से जुड़ने में नाकाम रहे तेजस्वी, नेता के बिना विपक्ष करता रहा हंगामा

बता दें कि मुजफ्फरपुर जिले के सात प्रखंडों के 49 पंचायतों में बाढ़ का पानी फैला हुआ है. इससे 1.30 लाख से ज्यादा आबादी प्रभावित हुई है. मुजफ्फरपुर जिले में 31 सामुदायिक रसोई का संचालन किया जा रहा है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*