‘सुशील मोदी और नीतीश कुमार बताएं, मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन मामले में चुप क्यों हैं’

सुशील कुमार मोदी, नीतीश कुमार, मुजफ्फरपुर, बालिका गृह, यौन उत्पीड़न मामला, तेजस्वी यादव, तेजस्वी यादव ट्वीट, Bihar Crime News, Bihar News, Sushil Modi, Nitish Kumar, Tejaswi yadav

लाइव सिटीज डेस्क : मुजफ्फरपुर बालिका गृह में यौन उत्पीड़न मामले में परत दर परत सनसनीखेज खुलासे हो रहे हैं. यह मामला अब राजनीतिक रूप भी लेता जा रहा है. एक ओर जहां राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने बालिका गृह मामले में यौन उत्पीड़न पर जांच प्रभावित करने की आशंका जतायी है और इस मामले की CBI जांच करवाने की मांग की है. वहीं नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने इस मामले को उठाते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पर निशाना साधा है.

उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन उत्पीड़न मामले में सुशील मोदी और नीतीश कुमार गंभीर चुप्पी क्यों साधे हुए है? किन-किन मंत्रियों व सरकारी अधिकारियों के यहां नाबालिग़ लड़कियों को भेजा जाता था, ये खुलासा करने मे किसका डर है? इसलिए की सत्ताधारी दलों के दिग्गज नेताओं के नाम सुनने मे आ रहे है. तेजस्वी यादव का ट्वीट तेजप्रताप यादव ने भी रीट्वीट किया है.

क्या है पूरा मामला

बता दें कि सरकार द्वारा संचालित बालिका गृह में रहने वाली बालिकाओं ने अपने ही संस्थान के लोगों पर यौन शोषण और हिंसा का आरोप लगाया था. इस बात का खुलासा मुंबई की प्रतिष्ठित संस्था ‘टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस’ नें अपनी सोशल ऑडिट रिपोर्ट में किया था. इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट के आधार पर जिला बाल कल्याण संरक्षण इकाई के सहायक निदेशक ने महिला थाने में बालिका गृह का संचालन करने वाले एनजीओ ‘सेवा संकल्प एवं विकास समिति’ के कर्ता धर्ता और पदाधिकारियों पर केस दर्ज कराया गया था.

एसएसपी हरप्रीत कौर ने कई खुलासा किया

इस मामले में मुजफ्फरपुर की एसएसपी हरप्रीत कौर ने कई खुलासा किया है. बालिका गृह में कई लड़कियों के साथ दुष्कर्म की पुष्टि मेडिकल जांच में हो गयी है. इतना हीं नहीं एक महिलाकर्मी भी लड़कियों के साथ समलैंगिक संबंध बनाती थी. एसएसपी ने कहा है कि इस प्रकरण में और लोग भी गिरफ्तार किये जा सकते हैं. जांच प्रभावित होने की बात कहकर उन्होंने नामों का खुलासा करने से इंकार कर दिया. उन्होंने कहा कि कई और भी चेहरे हैं जो पुलिस रडार पर हैं. संचालक को इन सभी बातों की जानकारी थी लेकिन उन्होंने इसे रोकने की कोशिश नहीं की.

यह भी पढ़ें : मुजफ्फरपुर : सरकारी बालिका गृह में यौन उत्पीड़न का सनसनीखेज खुलासा, मचा हड़कंप

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*