मुजफ्फरपुर महापाप : ब्रजेश की NGO ने खरीदी थी 19 गाड़ियां, अब नहीं मिल रहा कोई सुराग

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार के मुजफ्फरपुर से सामने आए बालिका गृह में यौन शोषण की जांच सीबीआई ने तेज कर दी है. वहीं अब इस मामले में एक और बड़ा खुलासा सामना आया है. बालिका गृह महापाप मामले की जांच में गांड़ियों के गायब होने का एक मामला सामने आया है. ये गाड़ियों के गायब होने का ये मामला बालिका गुह कांड़ के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर से जुड़ा हुआ है.

सेवा संकल्प एवं विकास समिति के तहत खरीदी थीं गाड़ियां

दरअसल मुजफफरपुर बालिका गृह कांड मामले के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकूर के एनजीओ ने 19 गाड़ियां खरीदीं थी. ये गाड़ियां गायब हो चुकी हैं. गायब गाड़ियों के बारे में जानकारी देते हुए डीटीओ नशिर अहमद ने जानकारी दी है कि इन 19 गाड़ियों का कोई भी सुराग नहीं मिल रहा है. उन्होंने बताया कि ये गाड़ियां ब्रजेश ठाकुर की एनजीओं ने सेवा संकल्प एवं विकास समिति के तहत खरीदें थे.

आपको बता दें कि मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर की 35 गाड़ियों को DM ने जब्त करने का आदेश दिया था. इस पर कोई कार्रवाई नहीं हो पाई. ऐसी जानकारी है कि जब्त होने से पहले शातिरों ने सभी गाड़ियों को कबाड़ी में बेच दिया है. यह 35 गाड़ियां आरोपी ब्रजेश के साथ – साथ  वहां काम करने वाले लोगों के नाम पर भी निकालीं गई थी.

पिछले जांच में मालूम चला था कि ब्रजेश ठाकुर के पते पर 35 गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन हुआ है. इसकी जानकारी मिलते ही मुजफ्फरपुर डीएम ने निर्देश जारी करते हुए कहा था कि सभी गाड़ियों को जब्त किया जाए. वहीं गाड़ियों को कब्जे में लेने के बाद यह जांच होने वाली थी. आखिर एक ही पता पर सभी गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन कैसे हो गया. क्या रजिस्ट्रेशन करने वाले अधिकारीयों को यह मालूम नहीं था. अगर मालूम था तो उन्होंने कार्रवाई क्यों नहीं की. खबर के अनुसार कई अधिकारी इस केस में फंस सकते थे, इसलिए सभी गाड़ियों को साइड कर दिया गया.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*