मुजफ्फरपुर महापाप पर फिर बोले नीतीश कुमार, जंतर-मंतर के धरना पर भी कसे तंज

nitish-kumar
nitish-kumar File photo

लाइव सिटीज डेस्क : मुजफ्फरपुर महापाप का मामला बिहार से लेकर दिल्ली तक छाया हुआ है. इसे लेकर विपक्ष लगातार नीतीश सरकार पर हमलावर बना हुआ है. इस मामले में दो दिन पहले नीतीश कुमार ने पहली बार अपनी चुप्पी तोड़ी थी. उन्होंने कहा था कि घटना काफी शर्मनाक है और मैं इसे लेकर आत्मग्लानि में हूं. लेकिन अब रविवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक बार फिर मुंह खोला है, साथ ही इस बार उन्होंने विरोधियों पर हमला भी किये हैं. लगे हाथ मीडिया को भी उन्होंने नसीहत दी है.

दरअसल पटना में रविवार को जीविकोपार्जन योजना का शुभारंभ किया गया. इसी कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहुंचे हुए थे. उन्होंने इस योजना की शुरुआत की. लोगों को संबोधन के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुजफ्फरपुर की घटना के बहाने विरोधियों पर निशाना साधा. उन्होंने जंतर-मंतर का धरना और बिना किसी का नाम लिये कहा कि मुजफ्फरपुर घटना पर लोग क्या-क्या बयान दे रहे हैं, क्या-क्या कर रहे हैं, उससे कोई मतलब नहीं है. उन्होंने कहा कि सरकार अपना काम कर रही है. किसी भी हालत में दोषी नहीं बचेगा. मामला किसी भी क्षेत्र का हो, गड़बड़ करनेवाला आदमी अंदर जाएगा ही.

वहीं मुख्यमंत्री ने मीडिया को भी नसीहत दी. उन्होंने कहा कि केवल एक घटना पर निगेटिव सोच नहीं बनाए मीडिया. उन्होंने कहा कि जो बेहतर काम हो रहा है, उसे भी वह चलाए. मीडिया को पॉजिटिव भी चलाए. उन्होंने कहा कि सरकार बेहतर काम कर रही है. बता दें कि मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामले को लेकर विपक्ष नीतीश सरकार पर लगातार हमलावर बना हुआ है.

इतना ही नहीं, नेताओं के बयानबाजी के बीच शनिवार को राजद के नेतृत्व में तमाम विपक्षी दल दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना दिया था. इसके बाद नेताओं ने कैंडिल मार्च भी किया था. इसमें शामिल राहुल गांधी, अरविंद केजरीवाल, जीतनराम मांझी, शरद यादव, तेजस्वी यादव, सीताराम येचुरी, डी राजा, दिनेश त्रिवेदी, कन्हैया, जेपी यादव समेत तमाम नेता नीतीश सरकार से लेकर नरेंद्र मोदी सरकार को जमकर कोसा था. इतना ही नहीं, कुछ ने तो मीडिया पर भी पक्षपात करने का आरोप लगाया था. इससे खफा नीतीश कुमार रविवार को पटना में आयोजित कार्यक्रम में विरोधियों पर निशाना साधा.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*