नीतीश कुमार ने विपक्ष को आड़े हाथों लिया, कहा- अपराध की बात मत कीजिए हमसे, जाइए पहले रिपोर्ट कार्ड देख लीजिए

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार के सीएम नीतीश कुमार लगातार अपने प्रत्याशियों के लिए प्रचार-प्रसार में जुटे हैं. मुख्यमंत्री आज सासाराम के नोखा पहुंचे. जहां उन्होंने विरोधियों पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि बिहार में पति-पत्नी के शासन काल में बिहार में कितना विकास हुआ है, ये आपके सामने है. उन्होंने कहा कि हमें काम दिखता है और कुछ लोगों को सिर्फ वोट दिखता है.

अपने संबोधन में सीएम ने कहा कि जो हमारे काम पर सवाल उठाते हैं, वो भूल जाते हैं कि पहले बिहार में व्यवसायियों का क्या हाल होता था. पहले व्यवसायी और डॉक्टर प्रदेश छोड़कर चले जाते थे. सीएम नीतीश ने कहा कि सबसे ज्यादा अत्याचार डॉक्टरों पर हुआ है. पैसों के कारण डॉक्टर को बंदी बना लिया जाता था. जिस कारण डॉक्टर बिहार से भागना शुरू कर दिए. बिहार के सीएम ने कहा कि आज के इस नई पीढ़ी के बताइए कि जो भी व्यवसायी और डॉक्टर बिहार छोड़कर नहीं भागे थे, उन्हें हमने पटना के कृष्ण मेमोरियल हॉल में बुलाकर सम्मानित किया. वे गवाह हैं उस दौर का जब उनपर जुल्म होता था.



सीएम ने आगे कहा कि हमें अपना बस काम करना है. कुछ लोगों को बोलने की आदत है. हमारे लिए पूरा बिहार परिवार है. लेकिन कुछ लोगों के लिए बस अपना परिवार ही परिवार है. वे पति-पत्नी और बेटा-बेटी से आगे बढ़ ही नहीं पा रहे हैं. नीतीश कुमार ने कहा कि वे बस अपने परिवार के लिए ही काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमने समाज के हर तबके लिए काम किया है. लेकिन कुछ लोग जैसे तैसे वोट तो ले लेते हैं. लेकिन जरा बता दीजिए कि आपने किसके लिए क्या काम किया है?

नीतीश कुमार ने कहा कि हमने 2005 में जब काम किया तो लोगों को हमारा काम पसंद आया. तब हमें फिर से काम करने का मौका मिला. हमने 2010 में भी उम्दा काम किया. लोग कितने खुश थे. लोगों ने फिर विश्वास जताते हुए एक बार और काम करने का मौका दिया. सीएम ने कहा कि आपने जब भी मुझे काम करने का मौका दिया है, मैंने जीतोड़ काम किया. लेकिन कुछ लोगों को हमारे काम से परेशानी होने लगी. हमारे मन में कोई और बात नहीं है. सेवा करना ही हमारा परम धर्म है. सीएम ने कहा कि हमने शुरुआती दौर से कहा है कि हम न्याय के साथ विकास का काम करेंगे. हमने ये कर के दिखाया भी है. हमने हर इलाके का विकास किया है. किसी भी इलाके में उपेक्षा नहीं हुई है और जो हाशिए पर है, उसके उत्थान के लिए भी काम किया.

हमने दलित, आदिवासी, अल्पसंख्यक समुदाय और अतिपिछड़ों के उत्थान के लिए काम किया. उन्होंने कहा कि कुछ लोग वोट लेते थे. लेकिन किसी की चिंता नहीं करते थे. लेकिन हमें वोट पर ध्यान नहीं रहता है. हमें बस लोगों की सेवा करने पर ध्यान रहता है और यही काम हम करते रहते हैं. वहीं उन्होंने अपराध पर कहा कि पहले अपराध की कितनी घटनाएं घटती रहती थी. लोग शाम में निकलता नहीं चाहते थे. लेकिन हम जब सरकार में आए तो आज आप बेखौफ होकर रातों में भी घूम लेते हैं. सीएम ने कहा कि केंद्र सरकार अपराध का आंकड़ा सार्वजनिक करती है. उन्होंने कहा कि साल 2018 के रिपोर्ट के मुताबिक बिहार अपराध के मामले में देश में 23वें नंबर पर है.