खुशखबरी ! पटना में अब राेबोट करेंगे मैनहोल की सफाई, 16 किलो कचरा एक बार में हो जायेगा साफ, गाद हटाने में लगेंगे सिर्फ 20 मिनट

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : राेबोट करेंगे मैनहोल को साफ. जी हां हम बात पटना की कर रहे हैं. वर्तमान में चेन्नई, हैदराबाद, मुंबई, गुवाहाटी आदि शहरों में इस मशीन की सहायता से मैनहोल की सफाई की जाती है. लेकिन, खुशी की बात यह है कि मंगलवार को इनकम टैक्स के पास रोबोट से एक मैनहोल की सफाई शुरू करवायी गयी. इससे सफाई का काम अगर सफल रहा तो निगम आवश्यकता अनुसार मशीनों को मंगवायेगा. सूबे में पहली बार ऐसा हुआ कि बैंडीकुट मशीन या राेबोट को निगम मुख्यालय में लांच किया गया. इससे सबसे अधिक राहत मजदूरों को होगा जिन्हें जहरीली गैस के कारण जान गंवानी पड़ती थी. उन्हें राहत मिलेगी.

हर दिन 8 से 10 मैनहोल की सफाई की जायेगी

मंगलवार को सफाई के सफल परीक्षण के समय मौके पर मेयर सीता साहू, नगर आयुक्त और आईओसी के पदाधिकारी थे. आपको बता दें कि इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन ने निगम को सीएसआर मद के तहत 40 लाख रुपये की वित्तीय मदद की है. पहली मशीन की खरीद के लिए आईओसी एवं पटना नगर निगम के बीच सहमति पत्र बन चुका है. मशीन की एक साल की वारंटी होगी. इससे हर दिन 8 से 10 मैनहोल की सफाई की जायेगी. इसे चलाने के लिए सिर्फ दो कर्मियों की जरूरत पड़ती है  



कर्मियों को चलाने की दी जायेगी ट्रेनिंग

आपको बता दें कि एक रोबोट से 16 किलो कचरे (गटर में जमे गाद, बालू, पत्थर, नॉन बायोडिग्रेडेबल कचरे) को एक बार में साफ किया जा सकता है. एक सामान्य गाद वाले मैनहोल की सफाई करने में इसे 20 मिनट ही लगेगा. इसमें 4 कैमरे भी लगे हैं. बाहरी हिस्सा नाले के ऊपर चारों तरफ रखा जाता है एवं दूसरे हिस्से में मौजूद इसकी चार बांहें नाले के अंदर तक जाकर गंदगी को बाहर निकालती हैं. कर्मियों को इसके ऑपरेशन की ट्रेनिंग दी जायेगी. वहीं, रोबोट में लगे कैमरे, ड्रोन एवं सेंसर के माध्यम से गटर की अंदरुनी स्थिति मॉनिटर पर दिख सकेगी. वहीं, कंट्रोल पैनल के माध्यम से इसका संचालन किया जायेगा.