नीतीश कुमार किसी दलित को मुख्यमंत्री बनाने की घोषणा करें : पप्पू यादव

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव ने कहा कि अगर हम सत्ता में आए तो भूमिहीनों को जमीन देंगे, शहर में गरीबों को 1 बीएचके का फ्लैट और कानून का राज स्थापित कर महिलाओं के लिए सुरक्षा सुनिश्चित करेंगे. राज्य में जितने भी बांध टूटे है उन सबकी जांच दो महीने के अन्दर करवाएंगे और भ्रष्टाचार में संलिप्त सभी नेताओं और अधिकारीयों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे. साथ ही मनरेगा और जल-जीवन-हरियाली में हो रहे भ्रष्टाचार की भी जांच करवाएंगे.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए पप्पू यादव ने कहा कि पिछले 15 वर्षों में नीतीश कुमार ने भूमि सुधार और रोजगार के लिए कोई काम नहीं किया है. राज्य की 76% फीसदी आबादी कृषि पर आधारित है जिसमें 57 फीसदी कृषक भूमिहीन है. युवाओं को रोजगार के लिए कोई बड़े कारखाने नहीं लगे. देश भर में 75 लाख प्रवासी मजदूर बिहारी हैं जिन्हें अपने राज्य में काम नहीं मिलने के कारण बाहर जाना पड़ता है. लॉकडाउन के दौरान 32 लाख प्रवासी मजदूर राज्य वापस आए लेकिन अब प्लेन का टिकट और 6 महीने का पैसा देकर दूसरे राज्यों के व्यापारी उन्हें वापस ले जा रहे है.



किसी दलित समुदाय से आने वाले व्यक्ति को मुख्यमंत्री बनाने की सिफारिश करते हुए जाप अध्यक्ष ने कहा कि सरकार अब दलित की मौत पर उनके परिवार के किसी सदस्य को नौकरी देगी. यदि नीतीश कुमार को दलितों की इतनी चिंता है तो किसी दलित को मुख्यमंत्री बनाने की घोषणा करें. लेकिन उन्होंने तो रमई राम से लेकर कई दलित नेताओं की बेज्जती कर पार्टी से निकाल दिया.

टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ़ सोशल साइंसेज (टिस) की एक रिपोर्ट का जिक्र करते हुए जाप अध्यक्ष ने कहा कि बिहार के हर चौथे व्यक्ति को काम की तलाश में राज्य से बाहर जाना पड़ता है. कोसी, सीमांचल, मिथिलांचल में कोई औधोगिक इकाई नहीं है. आज स्नातक से ऊपर के 60 फीसदी युवा बेरोजगार है. लेकिन फिर भी रोजगार मुख्य मुद्दा नहीं है. रोजगार, बाढ़, सुखाड़, शिक्षा और स्वास्थ्य पर चर्चा क्यों नहीं? केंद्र से बिहार के जीएसटी का पैसा बकाया पर उन्होंने कहा कि, अगर नरेन्द्र मोदी को बिहार की चिंता है तो जीएसटी का बकाया पैसा तत्काल जारी करें. प्रधानमंत्री से प्रश्न करते हुए उन्होंने कहा कि सवा लाख करोड़ का क्या हुआ? इसकी घोषणा 2015 में की गयी थी लेकिन अभी तक कुछ नहीं मिला है. बिहार की जनता अब आपके झांसे में आने वाली नहीं है.

रघुवंश प्रसाद सिंह और शिवानन्द तिवारी का जिक्र करते हुए पप्पू यादव ने कहा कि मैं रघुवंश जी के साथ खड़ा हूँ. सामाजिक न्याय के बिखराव का मुख्य कारण लालूजी के परिवार वाले है. महागठबंधन से मांझी जी निकल गए और कुशवाहा जी को भी अब बाहर निकाला जा रहा है. लालू जी को अपने परिवार को चिट्ठी लिखनी चाहिए कि वे पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का सम्मान करें. इस मौके पर राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एज़ाज़ अहमद, प्रदेश अध्यक्ष रघुपति सिंह, प्रेमचंद सिंह, राजेश रंजन पप्पू, राघवेन्द्र सिंह कुशवाहा, अवधेश कुमार लालू और जावेद खान उपस्थित रहे।