निखिल प्रियदर्शी के खिलाफ नया मामला, 2.30 करोड़ की ठगी के आरोप में प्रोडक्शन वारंट जारी

पटना : राजधानी के चर्चित ऑटोमोबाइल कारोबारी निखिल प्रियदर्शी की मुश्किल जेल में ही बढ़ सकती है. उसके खिलाफ राजधानी के एक बिजनेसमैन ने करोड़ों की ठगी का नया मामला दर्ज कराया है. इस मामले में निखिल प्रियदर्शी के साथ ही उसके पिता पूर्व आईएएस कृष्ण बिहारी प्रसाद सिन्हा, और भाई मनीष प्रियदर्शी को भी आरोपी बनाया गया है. इस मामले में कोर्ट ने निखिल के खिलाफ प्रोडक्शन वारंट भी जारी कर दिया है. निखिल प्रियदर्शी और उसके परिजनों पर जमीन सौदे में धोखाधड़ी और धमकी देने का आरोप है.

मिली जानकारी के अनुसार निखिल प्रियदर्शी पर यह नया मामला फुलवारीशरीफ निवासी बिजनेसमैन शोहेब हसन चांद ने दर्ज कराया है. पटना व्यवहार न्यायालय में दर्ज इस मामले में निखिल, उसके पिता और भाई पर सगुना मोड़ स्थित 40 कट्ठा जमीन के एवज में 2.30 करोड़ रूपये ठगने का आरोप है. चांद को बाद में यह जानकारी मिली कि यह जमीन विवादित है एवं जमीन का जाली दस्तावेज बनाकर उन्हें झांसा दिया गया है. यह भी कहा गया है कि रूपये वापस मांगने पर निखिल प्रियदर्शी एवं परिजनों द्वारा लौटाना तो उल्टे धमकी दिया जा रहा है.



पटना व्यवहार न्यायालय के ACJM-11 रत्नेश्वर कुमार सिंह ने गवाहों के बयान एवं अन्य दस्तावेजी साक्ष्यों के आधार पर आरोपी निखिल प्रियदर्शी, पिता एवं भाई के खिलाफ आईपीसी की धारा – 406, 420, 467, 468, 471, 387 एवं 120 (B) के तहत संज्ञान लेते हुये सम्मन जारी किया है. कोर्ट ने निखिल प्रियदर्शी को 11 जनवरी 2018 को प्रस्तुत करने का निर्देश बेऊर जेल अधीक्षक को दिया है.

निखिल प्रियदर्शी ने किया सरेंडर, फिर भेजा गया बेऊर जेल
देखें तस्वीरें : जेल से आते ही निखिल-सुरभि ने कर ली है शादी

मालूम हो कि कांग्रेस के पूर्व मंत्री की बेटी सुरभि के यौन शोषण के मामले में पहले जेल में बंद रहे निखिल प्रिउदर्शी ने बाद में सुलह कर उससे शादी कर ली थी. सुलह होने की स्थिति में बीते 29 अगस्त को उसे 6 महीने की जेल के बाद तीन माह के लिए प्रोविजनल बेल पर रिहा किया गया था. जेल से रिहा होने के बाद निखिल और सुरभि ने 6 नवंबर को छज्जुबाग स्थित रजिस्ट्रार ऑफिस में शादी कर ली थी. हालांकि प्रोविजनल बेल का समय समाप्त होने के बाद उसने बीते माह 27 नवंबर को सरेंडर कर दिया जिसके बाद उसे बेऊर जेल भेज दिया गया.