BSSC पर हाईकोर्ट में बड़ा फैसला : सुधीर कुमार समेत 14 की जमानत याचिका खारिज

Sudhir-kumar-23.jpg
IAS सुधीर कुमार (फाइल फोटो)

पटना (एहतेशाम अहमद) : बिहार के बहुचर्चित BSSC पेपर लीक मामले में आयोग के तत्कालीन अध्यक्ष सुधीर कुमार सहित 14 लोगों की जमानत याचिका को पटना हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है. हाई कोर्ट ने आरोपियों को किसी भी प्रकार की राहत देने से साफ तौर पर इंकार करते हुए आज बुधवार 6 दिसंबर को सभी की नियमित जमानत याचिका को खारिज कर दिया. हाईकोर्ट ने इनकी जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए फैसला पहले ही सुरक्षित रख लिया था.

पटना हाईकोर्ट में आज जस्टिस प्रभात कुमार झा की एकलपीठ ने आयोग के तत्कालीन अध्यक्ष सुधीर कुमार सहित चौदह अन्य की ओर से दायर नियमित जमानत याचिका पर एक साथ सुनवाई करने के बाद बुधवार को सुनाये गये फैसले में उक्त निर्देश दिया. सुनवाई के क्रम में राज्य सरकार की ओर से अधिवक्ता अजय मिश्रा ने अदालत को बताया था कि बिहार कर्मचारी चयन आयोग यानी बीएसएससी की इंटर (12वीं) स्तरीय पदों के लिये गये प्रारंभिक परीक्षा में प्रश्न पत्र और उसके उत्तर लीक होने के मामले में अनुसंधान के क्रम में कई अहम सबूत मिले हैं.



Patna-High-Court-min
पटना हाई कोर्ट (फाइल फोटो)

अदालत को बताया गया था कि इस कांड में अभियुक्त बनाये गये आयोग के पूर्व अध्यक्ष सुधीर कुमार, अटल बिहारी राय, अवधेश कुमार, गुड्डू कुमार, अनिश कुमार उर्फ गोलू, अविनाश कुमार, मुकेश कुमार, ओम प्रकाश गुप्ता, अरूण कुमार, नीति रंजन प्रताप, राम सुमेर सिंह, गौरीशंकर साह, मंजु देवी दिनेश कुमार आजाद आदि अभियुक्तों की संलिप्तता उजागर हुई है. इन लोगों द्वारा हजारीबाग से प्रश्न पत्र लाकर व्हाट्सअप एवं अन्य इलेक्ट्रानिक माध्यमों से पर्चा लीक कर वितरित किया गया है. अनुसंधान के क्रम में उजागर हुए तथ्यों का बारीकी से एक-एक कर अदालत के समक्ष खुलासा किया गया था.

जेल में बंद IAS सुधीर कुमार की मां का निधन
BSSC पर्चा लीक : IAS सुधीर कुमार मामले में हाई कोर्ट ने मांगी केस डायरी

दूसरी ओर अभियुक्तों की ओर से अदालत को बताया गया था कि इसमें सीधे तौर पर किसी के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं मिला है और ना ही इनके पास से कोई बरामदगी ही हुई है. अदालत ने बुधवार को दिये फैसले में कहा कि अभियुक्तों के विरुद्ध प्रथम दृष्टया संलिप्तता का साक्ष्य प्रस्तुत किया गया है, ऐसे में जमानत दिया जाना संभव नहीं प्रतीत होता है.