खुलासा : साली से अवैध संबंध में साढ़ू का रेता गला, फंसा दिया था निर्दोष को

patna140611

लाइव सिटीज, पटना : जिले की सिगोड़ी थाना की पुलिस ने एक ऐसे केस की गुत्थी को सुलझाया है, जिसमें शातिर अपराधियों ने खुद को बचाने की पुरी तैयारी कर ली थी. अपराधियों ने मामले को दूसरा रूप देने की कोशिश की थी. एक निर्दोष को फंसाने की पूरी तैयारी कर ली थी. एक निर्दोष उस जुर्म में जेल चला जाता, जो उसने किया ही नहीं था. लेकिन यहां पर तारिफ करनी होगी पटना पुलिस के टीम की. पुलिस टीम ने पूरे मामले की जांच की. उसके बाद जो बातें सामने आई, वो हैरान कर देने वाली थी.

मामला 31 मई की रात का है. सिगोड़ी थाना के नवधरी इलाके के पास कुछ अपराधियों ने वीरन मांझी की धारदार हथियार से गला रेत दिया था. अपराधी उसकी हत्या की करने की मंशा बनाकर ही आए थे. लेकिन मेन टाइम पर थाने की पुलिस टीम वहां पहुंच गई. उस वक्त अपराधी फरार हो गए थे. घायल वीरन मांझी को इलाज के लिए पीएमसीएच में एडमिट कराया गया था.

जांच में सामने आया चौंकाने वाला सच

वीरन के साढ़ू योगेंद्र मांझी और उसके मामा नेकी मांझी सहित फैमिली के दूसरे सदस्यों ने इस मामले को अलग रूप ही देने की कोशिश की थी. पुलिस के सामने इन लोगों ने वीरन के उपर हुए जानलेवा हमले के पीछे रुपए को लेकर हुआ विवाद बता दिया. इलाके के ही रहने वाले भुटकुन कहार को हमले का दोषी बताया. शुरूआती दौर में थाने की पुलिस टीम भी फैमिली वालों के बातों में आ गई. लेकिन थाने की पुलिस टीम ने जब गहराई से इस मामले की छानबीन की तो सच कुछ और ही था. जब असलियत सामने आई तो सभी के होश उड़ गए. मामला रुपए के विवाद का नहीं, बल्कि अवैध संबंध का था.

तीन लोगों की हुई गिरफ्तारी

दरअसल, गला रेतने का मामला जब सामने आया था तभी एसएसपी मनु महाराज ने पालीगंज के डीएसपी मनोज पांडेय और सिगोड़ी के थानेदार को सही तरीके से जांच कर असली दोषी को पकड़ने का आदेश दिया था. पुलिस के अनुसार वीरन मांझी का अपने साढ़ू योगेंद्र मांझी की वाइफ के साथ अवैध संबंध था. जिस कारण योगेंद्र ने अपने मामा नेकी मांझी और ननह मांझी के साथ मिलकर वीरन को जान से मारने का प्लान तैयार किया था. पुलिस टीम ने इन तीनों को गिरफ्तार कर लिया है.

About Amit Jaiswal 696 Articles
पटना में क्राइम की हर खबरों पर होती है पैनी नजर

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*