पटना पुलिस विद्रोह : SSP मनु महाराज ने ट्रैफिक SP से पूछा शो कॉज, IG साहब भी खफा हैं

पटना एसएसपी मनु महाराज का फाइल फोटो.

लाइव सिटीज पटना : अभी आप पटना पुलिस लाइन में ट्रेनी पुलिसकर्मियों के बवाल को भूले नहीं होंगे. इस बवाल पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी काफी नाराज हैं, वहीं डीजीपी के कड़े एक्शन के बाद 175 पुलिसकर्मियों की नौकरी जा चुकी है. वे सब गिरफ्तार भी किये जाएंगे. लेकिन अब नये मामले में पटना एसएसपी मनु महाराज ने ट्रैफिक एसपी प्रकाश नाथ मिश्रा से शो कॉज पूछा है. उन्होंने पूछा है कि मीडिया के सामने महिला कांस्टेबल की मौत पर वे क्यों सफाई दे रहे थे.

दरअसल पटना में पिछले सप्ताह महिला कांस्टेबल सविता पाठक की डेंगू से मौत हो गई थी. उसे सीनियर अधिकारी ने छुट्टी नहीं दी थी. वहीं मौत से खफा सविता पाठक के साथियों ने पटना पुलिस लाइन में जमकर हंगामा किया था. लाखों की संपत्ति नष्ट कर दी. सीनियर अधिकारियों को रपेट कर पीटा भी था. इसमें सिटी एसपी और ग्रामीण एसपी भी प्रदर्शनकारियों के हत्थे चढ़े थे.

इसे लेकर गुरुवार को सविता पाठक की मौत पर पटना ट्रैफिक एसपी प्रकाशनाथ मिश्रा ने सफाई दी. इतना ही नहीं, उन्होंने मीडिया के सामने कहा कि सविता पाठक की बीमारी की हमें जानकारी नहीं थी. किसी अन्य अधिकारी को भी उसने जानकारी नहीं दी थी. उन्होंने यह भी कहा कि सविता को जरूरत पड़ने पर कई बार छुट्टी मिली थी. दो माह से वह ट्रैफिक में डिप्यूटेशन पर थी.

बताया जाता है कि ट्रैफिक एसपी प्रकाशनाथ मिश्रा की ओर से मीडिया के समक्ष दी गई इस सफाई को जोनल आईजी नैयर हसनैन खां ने गंभीरता से लिया है. उनके निर्देश पर पटना एसएसपी मनु महाराज ने ट्रैफिक एसपी से जवाब तलब किया है. बता दें कि पुलिस लाइन में हुए हंगामा मामले की जांच जोनल आईजी कर रहे हैं.

बहरहाल इसी मामले 175 कांस्टेबलों को बर्खास्त कर दिया गया है. इसमें 167 ट्रेनी तो 8 पुराने कांस्टेबल हैं. इतना ही नहीं, इसी मामले में 23 पुलिसकर्मी सस्पेंड किये गये हैं. हालांकि बर्खास्त कांस्टेबलों में शामिल महिला सिपाहियों ने राज्य महिला आयोग का दरवाजा खटखटाया है. महिला सिपाहियों की मानें तो राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष ने जांच का भरोसा दिया है. वहीं महिला सिपाहियों ने बर्खास्तगी को गलत बताया है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*