अंजना मर्डर केस : गया के पटवा समाज ने चुनाव आयोग को भेजा वोट बहिष्कार का लेटर

अंजना मर्डर केस गया, gaya anjana murder, anjana murder case, anjana murder case bihar, anjana murder gaya,
अंजना मामले में वोट बहिष्कार की जानकारी देते पटवा समाज के लोग

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : लोकसभा चुनावों के दौरान गया का अंजना हत्याकांड मुद्दा गरमा सकता है. जिले के पटवा समाज ने इस मामले को लेकर अब लोकसभा चुनाव में वोटिंग के बहिष्कार करने का निर्णय लिया है. वस्त्र उद्योग बुनकर सेवा समिति के अध्यक्ष प्रेम नारायण पटवा ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखकर समाज की भावनाओं से अवगत कराया है. पटवा ने साथ ही मुख्य चुनाव आयुक्त, बिहार के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी और डीजीपी को भी पत्र लिखा है.

पटवा समाज के नेताओं ने आज गया में एक प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन कर इसकी जानकारी दी. इस दौरान बताया कि अधिकारियों को लिखे पत्र में उन्होंने अंजना हत्याकांड मामले में गया पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा है कि इससे पटवा समाज काफी आहत है. गया पुलिस के पास ऐसा कोई साक्ष्य नहीं है जो हत्याकांड में पीड़ित पिता की संलिप्तता को प्रमाणित करता है. पटवा टोली में वोट बहिष्कार को लेकर पिछले दो दिनों से हस्ताक्षर अभियान चलाया गया है. इसमें करीब 5500 से अधिक नागरिकों ने वोट बहिष्कार की घोषणा की है.

हम के घोषणापत्र में किसानों को बड़ी माफी देने का वादा, मांझी बोले- सभी वर्गों का रखा गया ध्यान

पटवा समाज ने कांड की जांच करने वाले वजीरगंज कैंप डीएसपी अभिजीत सिंह पर स्थानीय अपराधियों को संरक्षण देने का आरोप लगाया है. साथ ही सिंह को को जांच से अलग करने और तत्काल निलंबित कर उनपर कार्रवाई सुनिश्चित कराने की मांग की है.

अंजना मर्डर केस गया, gaya anjana murder, anjana murder case, anjana murder case bihar, anjana murder gaya,
गया के मानपुर में दीवारों पर चिपकाया गया पोस्टर

बता दें कि गया के मानपुर में पटवा समाज की एक युवती बीते साल 28 दिसंबर 2018 को घर से बाहर निकलने के बाद लापता हो गई थी. 6 जनवरी 2019 को लापता युवती की सिरकटी लाश मिली. गया पुलिस ने मामले में ऑनर किलिंग का आरोप लगाते हुए मृतका के पिता तुषार पटवा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. इधर पीड़ित के परिजनों व पटवा समाज के लोगों ने गया पुलिस की जांच में खामियां गिनाते हुए मामले को जल्दी निपटाने व असली आरोपियों को बचाने का आरोप लगाया है.

घटना के बाद कई दिनों तक गया में धरना-प्रदर्शन का दौर चलता रहा था. कई नेतागण भी पीड़ित परिवार से मिलने गए और न्याय का भरोसा दिलाया था. परिजनों के समर्थन में गया शहर से लेकर देश के विभिन्न इलाकों में प्रदर्शन हुए थे और कैंडल मार्च व आंदोलन कर मामले की सीबीआई जांच की मांग की थी.

About Anjani Pandey 863 Articles
I write on Politics, Crime and everything else.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*