लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : गया से बड़ी खबर आ रही है. शनिवार को गया के बोधगया में जमीन में प्लांट किया हुआ बम को पुलिस ने ढ़ूंढ निकाला है, वह भी आतंकी की निशानदेही पर. बम वहां के शौचालय में मिला है. बम को देखकर एनआईए टीम के अधिकारी दंग रह गये. उन्हें आश्चर्य हो रहा है कि यह बम अभी तक ब्लास्ट क्यों नहीं हुआ था.

सूत्रों की मानें तो शौचालय से बरामद बम ‘आईईडी बम’ है. बम को निष्क्रिय करने के लिए बम निरोधक दस्ता बोधगया पहुंचने वाला है. वहीं बम बरामद की जानकारी मिलते ही स्थानीय पुलिस भी सकते में आ गयी है. वहीं उस इलाके की सुरक्षा की जिम्मेवारी संभालने वाले अधि​कारियों की परेशानी बढ़ गयी है कि इतनी बड़ी चूक कैसे हुई. यह तो गनीमत थी कि बम ब्लास्ट नहीं हुआ. वरना बड़ी अनहोनी हो सकती थी.

दरअसल इसी साल 19 जनवरी को बोधगया मंदिर के निकट कई जगहों पर बम प्लांट किये गये थे. एक-दो जगह ब्लास्ट भी हुआ था. तब प्रशासन की नींद उड़ गई थी. जांच में स्थानीय पुलिस के अलावा एनआईए की टीम भी पहुंच गयी थी. उसी क्रम में उमर नामक आतंकी को पिछले दिनों गिरफ्तार किया गया था.

उसी गिरफ्तार आतंकी उमर के साथ एनआईए के अधिकारी शनिवार को बोधगया पहुंचे. उमर के साथ वे स्थल का सत्यापन करना चाहते थे कि 19 जनवरी को क्या-क्या हुआ था. उमर के बताये रास्ते पर एनआईए के अधिकारी छानबीन कर रहे थे. जहां-जहां बम प्लांट किये गये थे, वहां-वहां अधिकारी पहुंच रहे थे.

इसी क्रम में वे लोग कालचक्र मैदान और कब्रिस्तान को दौरा किये. कालचक्र मैदान व कब्रिस्तान के बीच एक पुरुष शौचालय है. उस शौचालय का भी निरीक्षण उमर के कहने पर किया गया. बंद शौचालय को जब खोला गया तो यह क्या, अंदर देखते ही एनआईए के अधिकारी दंग रह गये. शौचालय के अंदर एक जिंदा बम रखा हुआ था. यह वही बम था, जिसे जनवरी माह में रखा गया था. बहरहाल अब बम निरोधक दस्ते को बुलाया गया है. व्यापक पड़ताल की जा रही है. उस समय कहां चूक हुई जो यह बम पता नहीं चला. इसकी भी समीक्षा शुरू हो गयी है. अभी से इसके जिम्मेवार सुरक्षाकर्मियों व अधिकारियों की नींद उड़ गयी है.