इलाज के अभाव में PMCH डॉक्टर की पत्नी ने तोड़ा दम, कोरोना नेगेटिव होने पर भी किसी हॉस्पिटल में नहीं मिली जगह

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: कोरोना संकट के बीच इलाज की व्यवस्था राम भरोसे है. एक पीएमसीएच के डॉक्टर रंजीत सिन्हा की पत्नी की इलाज के अभाव में मौत हो गई. उन्होंने पत्नी को हॉस्पिटल में भर्ती कराने के लिए पटना के कई बड़े हॉस्पिटल का चक्कर लगाया. किसी ने भर्ती नहीं लिया. वह भी तब जब वह कोरोना निगेटिव थी. 

पत्नी की तबीयत खराब हो गई. पत्नी शुगर और बीपी की मरीज थी. उन्हें कुर्जी हॉस्पिटल में भर्ती कराने के बाद बेहतर इलाज के लिए दूसरे हॉस्पिटल ले जाने के लिए डॉक्टरों ने बोला. जहां पर हृदय रोग विशेषज्ञ की सेवा मिल सके. वहां से पाटलिपुत्रा के हॉस्पिल कोरोना टेस्ट कराया. टेस्ट में वह निगेटिव निकली तो ओपीडी में भर्ती किया. लेकिन स्थिति थोड़ी बिगड़ने लगी तो डॉक्टर ने आईसीयू में भर्ती कराने की बात कही. 



लगाते रहे चक्कर हो गई मौत

परेशान डॉक्टर पत्नी को लेकर बेली रोड़ के किनारे स्थिति एक बड़े हॉस्पिटल ले गए, लेकिन एक घंटे पूछताछ के बाद भर्ती करने से मना कर दिया. आईजीआईसी आए लेकिन वहां ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर ने उन्हें अच्छे सेंटर में ले जाने की सलाह दे दी लेकिन भर्ती नहीं किया. अंत में वह एम्स पहुंचे वहां भी आंधे घंटे तक रोककर रखा गया. पत्नी की गेट पर ही मौत हो गई. अब डॉक्टर रंजीत ने IMA को पत्र लिखकर प्राइवेट अस्पताल पर उचित कार्रवाई की मांग की है.