छपरा: दारोगा – सिपाही हत्याकांड में जिप अध्यक्ष सहित सभी आरोपितों के घर लगाया इश्तेहार

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : सारण जिले के दरोगा और सिपाही हत्याकांड मामले में जिला परिषद अध्यक्ष मीना अरुण समेत 7 आरोपियों को कर्ट ने शुक्रवार को फरार घोषित कर दिया. सारण पुलिस ने अध्यक्ष समेत सभी नामजद आरोपियों के घर पर फरारी का इश्तेहार चस्पा दिया है. न्यायालय के आदेश के बाद परिषद अध्यक्ष के सरकारी आवास तथा सरकारी कार्यालय समेत उनके निजी आवास पर भी इश्तेहार चस्पा दिया गया है.

चार दिन पहले छपरा के मढौरा स्थित मेन मार्केट में एसआईटी पर की गई अंधाधुंध फायरिंग में सब इंस्पेक्टर मिथलेश कुमार साह और कॉन्स्टेबल मोहम्मद फारुख शहीद हो गए. इस घटना में एसआइटी के जवान रजनीश कुमार गंभीर रूप से घायल हैं. इस मामले में एसआइटी के सब इंस्पेक्टर विकास कुमार सिंह के बयान पर जिला परिषद अध्यक्ष मीना अरुण, उनके पति सलीमापूर पंचायत के पूर्व मुखिया अरुण कुमार सिंह, भतीजा सुबोध कुमार सिंह समेत सात पर प्राथमिकी दर्ज की गई है.



डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय 21 अगस्त को शहीद पुलिसवालों को श्रद्धांजलि देने के लिए पहुंचे थे. उन्होंने श्रद्धांजलि देने के बाद मीडिया से बात की. उन्होंने साफ शब्दों में कह दिया कि अपराधी बचेंगे नहीं. पुलिसकर्मियों की शहादत को डीजीपी ने अपराधियों की कायराना हरकत बताया.

पांडेय ने कहा कि इस मामले में हर एंगल से जांच होगी और दोषियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा. डीजीपी से जब इस मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश करने को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने इस मांग को नकार दिया. डीजीपी पांडेय ने कहा कि जितने भी लाइसेंस धारी अपने शस्त्रों का दुरुपयोग करते हैं उनका लाइसेंस रद्द होगा.