पटना में एक्सपायर और नकली दवाओं को खपाने की थी तैयारी, दर्ज हुई एफआईआर

लाइव सिटीज, पटना/अमित जायसवाल : राजधानी में बड़े पैमाने पर एक्सपायर और नकली दवाओं को खपाने की तैयारी थी. इसे खपाने का अड्डा था पटना के गोविंद मित्रा रोड स्थित दवा का एक होलसेल दुकान. लेकिन एक्सपायर और नकली दवाओं का यह खेप होलसेल वाली दुकान में पहुंचने से पहले ही शास्त्रीनगर थाना की पुलिस के हाथ लग गया. जिसके बाद ड्रग डिपार्टमेंट की टीम को खबर किया गया.

ड्रग इस्पेक्टर रंजन कुमार और उनकी टीम मौके पर पहुंची. पूरे मामले की छानबीन हुई. जिसमें चौंकाने वाली बातें सामने आई है. दरअसल, एक्सपायर और नकली दवाओं से भरे 6 कार्टन शास्त्री नगर थाना की पुलिस टीम को पेट्रोलिंग के दौरान बीएसईबी बोर्ड स्थित डीएवी स्कूल के पास रोड साइड मिली थी. पूरी खेप को उठाकर थाना लाया गया. गुरुवार को ड्रग इंस्पेक्टर और उनकी टीम ने पड़ताल की.

बैच से हुई छेड़छाड़

ड्रग डिपार्टमेंट की टीम ने जब अपनी जांच शुरू की तो एक कार्टन में सिर दर्द की दवा डिस्प्रिन मिली. करीब 100 टैबलेट मिले. बारीकी से जांच करने पर इसके बैच के साथ छेड़छाड़ किया हुआ मिला. टीम के अनुसार इसका बैच ही बदला हुआ था. जिससे लग रहा था कि एक्सपायर की गई दवा का बैच बदलकर उसे खपाने की तैयारी थी.

30 ग्राम के पैक में 15 ग्राम का मिला ट्यूब

जांच कर रही टीम उस वक्त हैरान हो गई, जब दर्द में इस्तेमाल किया जाने वाला वॉल्नी मरहम का 15 ग्राम का ट्यूब 30 ग्राम के डब्बे में पैक मिला. काफी संख्या में इस तरह के पैकिंग मिले. जांच के क्रम में कुल 9 तरह की दवाएं बरामद की गई.

मंटू के नाम से मिला बिल

दवा के इस खेप के साथ गोविंद मित्रा रोड में स्थित नालंदा मेडिको के मंटू के नाम से एक बिल भी बरामद हुआ. जांच के क्रम में जो बातें सामने आई है, उसके अनुसार एक्सपायर व नकली दवाओं को खपाने के साथ ही टैक्स चोरी का मामला भी सामने आया है. इस मामले में ड्रग डिपार्टमेंट की टीम की तरफ से एक एफआईआर शास्त्री नगर थाना में दर्ज कराई गई है. अब पुलिस टीम ने अपनी छानबीन शुरू कर दी है.