नीतीश कुमार के हाथ का कैश 6 हजार हुआ कम, सुशील मोदी और अन्य मंत्रियों की संपत्ति जानिए

NITISH-MODI
फाइल फोटो

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : हर साल की तरह इस साल भी बिहार के मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री और अन्य मंत्रियों के संपत्ति की डिटेल जारी की गई है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी समेत बिहार के सभी मंत्रियों के संपत्ति की डिटेल आज साल के अंतिम दिन सोमवार, 31 दिसंबर को जारी की गई. दी गई जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पुत्र निशांत लगातार उनसे ज्यादा की संपत्ति के मालिक बने हुए हैं. हालांकि नीतीश कुमार के पास हाथ में उपलब्ध रकम में कमी हुई है.

संपत्ति की डिटेल देखें तो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से आगे बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी निकल गए हैं. सुशील मोदी बीते साल भी नीतीश कुमार से ज्यादा की संपत्ति के मालिक थे. सुशील मोदी से भी ज्यादा की संपत्ति की मालिक उनकी पत्नी हैं. मोदी के पास जहां 1.40 करोड़ के आसपास की चल-अचल संपत्ति है. वहीं उनकी पत्नी के पास 1.51 करोड़ से कुछ ज्यादा की चल व अचल संपत्ति है. वैसे सुशील मोदी पर करीब 17.50 लाख रूपये का कर्ज भी है. दोनों पति-पत्नी मिलाकर करीब साढ़े 500 ग्राम सोना है. फ्लैट और गाड़ियां तो हैं ही.



साल 2017 : नीतीश कुमार से ज्यादा अमीर हैं सुशील मोदी, यहां देखें- किसके पास है कितनी संपत्ति

बिहार के मंत्रियों की संपत्ति

प्रभात खबर डॉट कॉम पर प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री जय कुमार सिंह के पास 7129062 रुपये की चल व अचल संपत्ति है. इसमें उनके पास 1633062 रुपये की चल और 5496000 रुपये की अचल संपत्ति है. उनके पास 0.32 बोर का पिस्टल और एक राइफल है. पत्नी और बच्चों के पास कुल 2557753 की चल संपत्ति है. मंत्री के पास एक फॉरच्युनर और एक मारूती कार है.

जल संसाधन मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह के पास कुल 54736730 रुपये की संपत्ति है. उनके पास एक कार, एक एनपी बोर पिस्टल, और एक लाइफल भी है. उनकी पत्नी रेणु देवी के पास 3623492 रुपये की चल संपत्ति है. इसमें 50 तोला सोना-चांदी की ज्वेलरी शामिल है.

पंचायती राज मंत्री कपिलदेव कामत और उनकी पत्नी के पास कुल करीब दो करोड़ की संपत्ति है. इसमें 1.5 करोड़ कीमत की सिर्फ जमीन ही है. पंचायती राज मंत्री के बैंक खाते में करीब 32 लाख रुपये जमा हैं. उनके पास सुमो गोल्ड और टवेरा गाड़ी है. वही उनके पास 64 हजार रुपये के सोने चांदी है. उनकी कुल संपत्ति 1.30 करोड़ जबकि उनकी पत्नी के पास कुल 70 लाख की संपत्ति है. पंचायती राज मंत्री के पास 47 हजार जबकि उनकी पत्नी के पास 35 हजार रुपये कैश है.

नगर विकास एवं आवास मंत्री के पास कुल 3.60 करोड़ तो उनकी पत्नी के पास 3.18 करोड़ की आवासीय व व्यावसायिक संपत्ति है.

सूबे के पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव पर किसी भी प्रकार का कर्ज नहीं है. पिछले साल की तुलना में उनकी पास नगदी भी कम हो गयी है. 2018 में इनके पास नगद 15 हजार है जबकि पिछले साल 17200 था. सरकारी गाड़ी पर चलने वाले मंत्री एक स्कूटर के मालिक हैं जिसका बाजार मूल्य पांच हजार है. इनके पास 41 लाख से अधिक की चल संपत्ति है. इसमें 15 हजार नगद भी शामिल है. बैंको में इनके खाते और एफडी में 33 लाख से अधिक जमा है. इनके पास 4.35 लाख का एनएससी भी है. आभूषण के नाम पर सौ ग्राम सोना का आभूषण है जिसकी कीमत 3.20 लाख है. 350 ग्राम चांदी के आभूषण की कीमत 14385 रुपया है. इनके पास 55 लाख की अचल संपत्ति है.

सूबे के ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार 75 हजार 255 रुपये कैश के साथ रिवाल्वर और राइफल भी रखते हैं. दोनों लाइसेंसी हथियार उनके गृह थाना सिलाव के पते पर हैं. इसमें रिवाल्वर की कीमत 55 हजार और राइफल की कीमत 50 हजार रुपये है. उनके दो बैंक खातों में करीब सवा आठ लाख रुपये जमा हैं. इनकी पत्नी के पास 91 हजार 251 कैश और पांच खातों में करीब पांच लाख 70 हजार रुपये जमा हैं. मंत्री के पास दो गाड़ियां हैं.

परिवहन मंत्री संतोष कुमार निराला लगभग 14 लाख की टाटा सफारी पर चढ़ते हैं, लेकिन उनके पास नगद नहीं है. अपनी संपत्ति का दिये गये ब्योरा में उनके, उनकी पत्नी मंजू कुमारी, आश्रित करिश्मा कुमारी व दोनों बेटे शुभम व संगम के पास भी नगद नहीं है. खुद मंत्री के पास जेवरात के नाम पर कुछ नहीं है. जबकि, उनकी पत्नी मंजू कुमारी के पास लगभग दो लाख के जेवरात है. मंत्री के पास टाटा सफारी के अलावा चार लाख 77 हजार चल संपत्ति है. इसमें बैंक में जमा लगभग दो लाख व ढाई लाख का राइफल, पिस्टल, फ्रिज, कूलर सहित अन्य सामान है. अचल संपत्ति में 50 लाख की खेती योग्य भूमि है. गैर कृषि भूमि 22.80 लाख का है. आवासीय घर की कीमत 11 लाख की है. पत्नी मंजू कुमारी के बैंक में 15 हजार जमा है. गैर कृषि भूमि व आवासीय घर की कीमत 40 लाख है.