मसुदन स्टेशन अटैक : किऊल-जमालपुर रूट पर रेल ट्रैफिक बंद, ट्रेनें रुकी, यात्री परेशान

पटना/मुंगेर : नक्सलियों के दो दिन के बंद के दौरान मसुदन रेलवे स्टेशन पर किये गए अटैक का इस रूट के रेल परिचालन पर बुरा असर पड़ा है. मिली जानकारी के अनुसार किऊल-जमालपुर रेलखंड पर रेल परिचालन फिलहाल रोक दिया गया़ है. नक्सलियों ने मालदा रेलमंडल के प्रबंधक को अगवा किये गए एएसएम के मोबाइल से ट्रेन परिचालन रोकने की चेतावनी दी है. साथ ही कहा है कि रेल परिचालन नहीं रोके जाने पर अगवा रेलकर्मियों की हत्या कर दी जायेगी. इस वजह से किऊल-जमालपुर रेलमार्ग पर से गुजरनेवाली ट्रेनें जमालपुर-भागलपुर एवं किऊल-मोकामा रेलमार्ग पर विभिन्न स्टेशनों पर ट्रेनें खड़ी हैं.

इस घटना के बाद से पिछले दस घंटों से क्यूल जमालपुर रुट पर रेल परिचालन बाधित है. 13401 अप भागलपुर दानापुर-इंटरसिटी एक्सप्रेस रतनपुर में खड़ी है जबकि 13023 अप हावड़ा-गया एक्स्प्रेस जमालपुर में खड़ी है. 13242 डाउन राजेन्द्र नगर बांका इंटरसिटी क्यूल नहीं आई है, वहीं 13420 डाउन मुजफ्फरपुर भागलपुर-जनसेवा क्यूल में, 13414 फरक्का एक्सप्रेस क्यूल में, 53042डाउन जयनगर-हावड़ा पैसेंजर क्यूल नहीं आई है.



बता दें कि मसुदन स्टेशन पर नक्सलियों ने मंगलवार की देर रात लगभग 11.30 बजे धावा बोल कर स्टेशन के पैनल व केबल में आग लगा दी. वहीं, स्टेशन के दो कर्मियों एएसएम मुकेश कुमार एवं पोर्टर निलेंद्र मंडल को अगवा कर अपने साथ जंगल की ओर लेते चले गये. इस बारे में अपर पुलिस अधीक्षक (अभियान) पवन कुमार उपाध्याय ने बताया है कि पुलिस, एसटीएफ व सीआरपीएफ जवान अगवा किये गये रेलकर्मियों की खोज में लगे हुए हैं. फिलहाल रेलकर्मियों की सुरक्षा की दृष्टि से रेल परिचालन को रोक दिया गया है.

गौरतलब है कि ऑपरेशन ग्रीन हंट के विरोध में नक्सलियों ने बिहार-झारखंड में इस बंद का आहवान किया है. इस बारे में पूर्व मध्य रेल ने सतर्कता के मद्देनजर धनबाद, मुगलसराय और दानापुर मंडल के कुछ स्टेशनों के लिए अलग से दिशा निर्देश भी जारी किया था. ट्रेन की स्पीड 75 किलोमीटर से अधिक नहीं करने का निर्देश दिया गया है. साथ ही यात्री ट्रेन के पहले पायलट इंजन चलाई जा रही है.

मसुदन रेलवे स्टेशन पर नक्सलियों का हमला, SM समेत दो अगवा, सिग्नल फूंका