रामकृपाल यादव बोले – मैं अपने स्टैंड पर कायम, संपूर्ण क्रांति ट्रेन को लेकर कोई समझौता नहीं

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : पटना से दिल्ली को जाने वाली सबसे महत्वपूर्ण ट्रेन संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस पर विवाद छिड़ गया है. दरअसल, संपूर्ण क्रांति को दिल्ली से झारखंड के देवघर जिला के मधुपुर रेलवे स्टेशन तक चलाने का प्रस्ताव रेलवे को दिया गया है. जिस वजह से पूर्व केंद्रीय मंत्री और पाटलिपुत्र के सांसद रामकृपाल यादव और गोड्डा के सांसद निशिकांत दुबे आमने-सामने आ गए हैं.

निशिकांत दुबे के बयान पर रामकृपाल यादव ने पलटवार किया है. उन्होंने साफ कहा कि वे अपने स्टैंड पर कायम है. संपूर्ण क्रांति को लेकर कोई समझौता नहीं होगा. रामकृपाल यादव ने निशिकांत दुबे की बातों को ख़ारिज करते हुए कहा कि पटना से दिल्ली जो भी ट्रेन चलती है. वह ट्रेन 9 घंटे तक खड़ी रहती है जबकि उसको तैयार करने में 6 घंटा लग जाता है. ऐसे में ट्रेन मधुपुर कैसे जा सकती है.

इसी के साथ रामकृपाल यादव ने गोड्डा सांसद से आग्रह करते हुए कहा कि वे मधुपुर के लिए कोई दूसरी ट्रेन चलवा लें. निशिकांत दुबे रेलवे से मधुपुर के लिए नई ट्रेन की मांग करें. मैं खुद उनका साथ दूंगा. उन्होंने कहा कि हमलोग 8 सांसदों ने रेल मंत्रालय से आग्रह किया है कि संपूर्ण क्रांति का विस्तार नहीं किया जाए. विस्तार की खबर से जनता में आक्रोश है.

बता दें कि गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे ने आज मीडिया से बात करते हुए कहा था किअगर ट्रेन मधुपुर से खुलती है तो इसका फायदा मुंगेर, बेगूसराय, जमुई और बांका के सांसदों को भी मिलेगा. संपूर्ण क्रांति 12 घंटे तक खड़ी रहती है. जिससे रेलवे को घाटा होता है. ऐसे में रेलवे बोर्ड का इस समय का सदुपयोग करना चाहिये और उसे मधुपुर तक विस्तारित कर देना चाहिये.

गौरतलब है कि संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस को मधुपुर तक विस्तार देने की रेल मंत्रालय की योजना के विरोध में सोमवार को पाटलिपुत्र के सांसद रामकृपाल यादव, डॉ. सीपी ठाकुर समेत आठ सांसदों ने आवाज बुलंद की है. सांसदों ने ऐसी स्थिति में आंदोलन की चेतावनी दी है. सांसदों ने रेलवे बोर्ड की मंशा की निंदा करते हुए कहा कि पटना से लेकर दिल्ली तक विरोध होगा. शीघ्र ही इस संबंध में रेलमंत्री से मिलकर बात की जाएगी.

About परमबीर सिंह 1987 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*