समस्तीपुर में बोले रविंद्र कुमार सिंह, भाजपा – कांग्रेस से नहीं, हमारी लड़ाई है सिस्‍टम से

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा व राष्ट्रीय समान अधिकार यात्रा के संयुक्त तत्वाधान में सवर्ण महासम्मेलन सभा समस्तीपुर के सिंघिया प्रखंड के मोरबाड़ा राम जानकी मंदिर के प्रांगण में सफलतापूर्वक संपन्‍न हो गया. इस दौरान राष्ट्रीय समान अधिकार यात्रा के संयोजक सह अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा बिहार प्रदेश अध्यक्ष ई. रविन्द्र कुमार सिंह ने सवर्णों को दस प्रतिशत आरक्षण को छलावा बताया. कहा – ‘हम न तो भाजपा का विरोध करते हैं और न ही कांग्रेस की बराई. हमारी लड़ाई तो सिस्‍टम से है. सवर्णों को यह 10 फीसदी आरक्षण जो दिया गया है, इसका क्‍या होगा। किसी को नहीं पता है. क्‍यों‍कि 50 प्रतिशत से आरक्षण होने पर मामला कोर्ट में जायेगा और 70 सालों में कोर्ट से राममंदिर मामले में आज तक फैसला नहीं आ सका, तो इस बिल का क्‍या होगा, यह विचारणीय है.

इससे पहले उन्‍होंने ये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत उन तमाम सांसदों को धन्‍यवाद दिया, जिन्‍होंने आर्थिक आरक्षण के मुद्दे पर रजामंदी दी. सिंह ने कहा कि 8 लाख पर आरक्षण तो दे दिया, लेकिन भारत में 2 करोड़ 30 लाख की आबादी ही 4 लाख से उपर का टैक्‍स भरती है. सरकार पहले इसे परिभाषित करे. हमारा मानना है कि आरक्षण जाति या धर्म के आधार पर नहीं, बल्कि आर्थिक गरीबी के आधार पर मिले और उसका समय – सीमा तय हो.

रविन्द्र कुमार सिंह ने मोदी सरकार द्वारा चलाए गए आयुष्मान योजना को जन विरोधी बताते हुए कहा कि इससे न सवर्णों का भला होगा और न देश के अन्य कमजोर लोगों का. क्योंकि इस योजना के तहत लाभ भी अपोलो और पारस जैसे अस्पतालों को मिलेगा, जहां ग़रीब या मध्यम वर्ग के लोग इलाज कराने में सक्षम नहीं होंगे. इसलिए हमारी मांग है कि सरकार द्वारा कोई भी स्वास्थ्य संबंधित योजना प्रखंड या पंचायत स्तर पर चलाई जाए, जिसका लाभ देश के सभी तबके के लोगों को मिल सकेगा.

उन्‍होंने कहा कि एक समान शिक्षा के साथ-साथ एक नागरिकता और एक कानून की बात पर ज़ोर दिया और कहा कि भारतीय संविधान की मूल अवधारणा अवसर की समानता और समान न्‍याय का अधिकार है. हमारी मांग ये भी है कि किसानों के लिए हर प्रखंड में बाजार खोले जायें और किसानी पेशे को उद्योग का दर्जा दिया जाय. इन्‍हीं सब मांगों को लेकर हम प्रदेश के युवाओं और अन्‍य लोगों को जागरूक कर रहे हैं. उन्‍होंने कहा कि हम इस यात्रा के जरिये देश को एक सूत्र में बांधना चाहते हैं.

वहीं, सवर्ण महासम्मेलन को संबोधित करते हुए अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के युवा प्रदेश अध्‍यक्ष रोहित सिंह रैकवार ने कहा कि जात की राजनीति करने वाले नेताओं ने देश के विकास को अवरूद्ध किया है। ऐसे लोग आज सभी दलों में भरे हैं, जो देश में पिछड़े लोगों को सर्वर्णों के खिलाफ भड़काते हैं और वोट लेते हैं, इसके बावजूद भी आज पिछड़ापन भारत की समस्‍या बनी हुई है. जबकि सवर्ण समाज सबको साथ लेकर चलने में यकीन रखती है. लेकिन राजनीतिक जंतु समाज में हमें एक दूसरे के खिलाफ भड़का कर सत्ता सुख भोगते हैं. सवर्ण समाज अब जागरूक हो चुका है और अब ये सब नहीं चलेगा. इसलिए हम चाहते हैं कि केंद्र सरकार माननीय सर्वोच्‍च न्‍यायालय के एससी-एसटी पर दिये फैसले को लागू किया जाये. इन्‍हीं सब मांगों को लेकर हम प्रदेश के युवाओं और अन्‍य लोगों को जागरूक कर रहे हैं.

वहीं विशाल सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय समान अधिकार यात्रा का व्यापक सोच़ है कि हम पटेल के विचारों को बड़ा बनाये. सरदार पटेल की एक व्यापक सोच़ ही थी, जिसके कारण 562 रियासतें एक साथ भारत को एक बनाने का काम किया. सभी रियासतों ने ही मिलकर भारत के संचालन के लिए आर्थिक मदद कर एक मजबूत स्तंभ तैयार किया. जिसके कारण ही आज तक आरक्षण, 2-4 रूपये गेहूँ-चावल देकर भारत की गरीबी रेखा से नीचे 40% आबादी को मजबूत करने के लिए सवर्णों ने ही योगदान दिया. एक मजबूत और अखंड भारत का सपना पूरा करने में राष्ट्रीय समान अधिकार यात्रा मददगार साबित होगा.

इससे पहले कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत ई. रवीन्द्र कुमार सिंह, रोहित सिंह रैकवार, विशाल सिंह परमार ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया. सभा की अध्यक्षता एवं मंच संचालन मोरारी सिंह ने किया. वहीं, सुरेश सिंह (जिला अध्यक्ष अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा दरभंगा), सशील सिंह(मुखिया निमैठी, दरभंगा), अरविंद सिंह(पूर्व मुखिया) जहाँगीरपुर, निरंजन सिंह, राजन सिंह, सरोज कुमार सिंह, कौशल सिंह, अरुण शेखर कुँवर ने भी सभा को संबोधित किया.

इस मौके पर आयोजक सुमित सिंह, सुमन सिंह,अमित सिंह “मिन्टू”, मिथलेश सिंह, कृष्ण मोहन सिंह, विजली सिंह, अर्जुन सिंह, कंचन सिंह, विपिन कुमार सिंह के साथ सैकड़ों लोग लोग मोजूद थे.

About परमबीर सिंह 803 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*