आरसीपी सिंह पड़ गए हैं फेरे में, जेडीयू ने ही खोल दिया, कितने बड़े जमीनबाज हैं ये, जाने पक्ष-विपक्ष ने क्या कहा

लाइव सिटीज, पटना: जदयू के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह की उनकी पार्टी ने गंभीर आरोप लगाते हुए नोटिस भेजा है. आरसीपी सिंह पर आरोप लगा है कि जदयू में रहते हुए उन्होंने अकूत संपत्ति बनाई है. जदयू ने आरसीपी सिंह को इस मामले में नोटिस भेजकर जवाब मांगा है. इसपर विहार की सियासत तेज हो गई है.

इसपर आरजेडी प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि आरसीपी सिंह पर जो जेडीयू ने नोटिस भेजा है, ये जेडीयू का अंतरिक मामला है. इसमे कोई लेना देना नहीं हैं. लेकिन जिस तरह से जेडीयू में आरसीपी सिंह को लेकर जिस तरह से खटपट चल रही है. उसी का यह परिणाम दिख रहा है. पार्टी में रहकर पार्टी के खिलाफ कोई गतिविधि करेंगे तो पार्टी उनपर कार्रवाई करती है.

वहीं NDA में शामिल जीतनराम मांझी की पार्टी ने कहा कि NDA घटक दल में एक चीज बहुत साफ है कि  हम न्याय के साथ विकास पर विशेवास रखते हैं. जेडीयू नेता के उपर पार्टी ने आरसीपी सिंह पर  शो-कॉज नोटिस भेजा है. अगर उन्होंने जवाब नहीं दिया तो पार्टी उनपर कार्रवाई करेगी. इसका मतलब ये नहीं है पूरी की पूरी पार्टी शामिल है. विपक्ष के नेता कुछ भी बोलते रहते हैं. उनके नेताओं का उपर कोई शिकायत आती है तो पूरी पार्टी बचाने में लग जाती है. हमारे पार्टी में किसी भी नेता के खिलाफ शिकायत आती है तो पार्टी पहले जांच करती है. उसके बाद हमलोग कार्रवाई करते हैं.

आपको बता दें की प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा के द्वारा भेजे गए पत्र सह नोटिस में पूछा गया है कि नालंदा जिला के दो साथियों का साक्ष्य के साथ परिवाद प्राप्त हुआ है. जिसमें यह उल्लेख है कि अब तक उपलब्ध जानकारी के अनुसार आपके एवं आपके परिवार के नाम से वर्ष 2013 से 2022 तक अकूत अचल संपत्ति निबंधित की गई है.

चिट्ठी में लिखा गया है कि कई प्रकार की अनियमितताएं दृष्टिगोचर होती हैं. आप लंबे समय से दल के सर्वमान्य नेता नीतीश कुमार के साथ अधिकार एवं राजनीतिक कार्यकर्ता के रूप में काम कर रहे हैं . आपको पार्टी के नेता ने दो बार राज्यसभा का सदस्य पार्टी का राष्ट्रीय महासचिव और राष्ट्रीय अध्यक्ष तथा केंद्र में मंत्री के रूप में कार्य करने का अवसर पूर्ण विश्वास एवं भरोसा के साथ दिया.