रालोसपा के जीतेंद्र नाथ बोले, आधार वोट बैंक के खिसकने से हताश हैं नीतीश कुमार

उपेंद्र कुशवाहा के साथ जीतेंद्र नाथ फाइल फोटो.

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : रालोसपा ने एक बार फिर जेडीयू पर हमला बोला है. रालोसपा के पार्टी प्रवक्ता जीतेंद्र नाथ ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हताशा की स्थिति में हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा पर आपत्तिजनक टिप्पणी दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अपने आधार वोट के खिसकने की आशंका से हताश हैं और इसी बेचैनी में वे अनाप-शनाप बोल रहे हैं. वे उपेंद्र कुशवाहा को नीच बोले जाने पर पलटवार कर रहे थे.

उन्होंने कहा कि बिहार के अंदर पिछले तीन दशक से राजनीति के केंद्र में पिछड़े, अतिपिछड़े और दलित रहे हैं. 1994 का साल यहां की सामाजिक धारा की राजनीति का टर्निंग पॉइंट रहा है. नीतीश कुमार इसी टर्निंग पॉइंट की उपज हैं. साथ ही कुर्मी, कुशवाहा और धानुक इनका आधार वोट बैंक बनकर उभरा. यह लगभग 20 परसेंट वोट होता है.

रालोसपा प्रवक्ता जीतेंद्र नाथ ने कहा कि नीतीश कुमार के आधार वोट बैंक इन दिनों बेचैन हैं. वे खुले तौर पर विकल्प तलाश रहे हैं. इतना ही नहीं, अब ये वोट बैंक उपेंद्र कुशवाहा में अपना भविष्य देखने लगे हैं. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने अपने आधार वोट से आने वाले दूसरी पंक्ति के नेताओं को पनपने नहीं दिया है. ऐसे में उपेंद्र कुशवाहा की चुनौती इन्हें नहीं पच रही है.

उन्होंने कहा कि उपेंद्र कुशवाहा 2019 की लोकसभा और 2020 की विधानसभा को ध्यान में रखकर न सिर्फ शिक्षा की बेहतरी और न्यायपालिका में आरक्षण जैसे सवाल पर नियमित आंदोलन कर रहे हैं, बल्कि सोशल इंजीनियरिंग पर भी जोर दे रहे हैं. पिछले दिनों मंडल जयंती के बहाने खीर पॉलिटिक्स भी करते दिखाई पड़े. कुशवाहा की सोशल इंजीनियरिंग का सबसे अधिक खामियाजा नीतीश कुमार को उठाना पड़ रहा है. बता दें कि उपेंद्र कुशवाहा ने जीतेंद्र नाथ पर धानुक और कुर्मी समाज को जोड़ने की महती जिम्मेवारी सौंपी है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*