सृजन घोटाला मामले में सात पर गिरफ्तारी वारंट जारी, वारंटियों में एक पूर्व एडीएम भी

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार का सृजन घोटाला एक बार फिर सुर्खियों में है. बिहार के भागलपुर जिले से जुड़े इस सृजन घोटाले की जांच तेज हो गई है. इस में सात लोगों के खिलाफ सीबीआई कोर्ट ने गिरफ्तारी वारंट जारी किया है. जानकारी के अनुसार वारंटियों में एक पूर्व एडीएम राजीव रंजन सिंह भी शामिल हैं. बताया जाता है कि कई बैंककर्मियों से पूछताछ भी इसी दौरान हुई है. वहीं कई अधिकारी अभी भी सीबीआई के रडार पर हैं. उनलोगों से भी जल्द पूछताछ की संभावना है.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सृजन घोटाले में सीबीआई कोर्ट ने जिन सात लोगों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है, उनमें तत्कालीन कल्याण पदाधिकारी अरुण कुमार की पत्नी इंदू गुप्ता, बैंक ऑफ बड़ौदा के अकाउंटेंट वरुण कुमार, बैंककर्मी सुबोध दास, एके विश्वास, प्रवीण कुमार व रामकृष्ण झा भी शामिल हैं. इन लोगों के खिलाफ सीबीआई ने पिछले दिनों कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की थी.

गौरतलब है कि तत्कालीन एडीएम राजीव रंजन सिंह भागलपुर में वर्ष 2014 में भू-अर्जन पदाधिकारी के पद पर तैनात थे. वे 21 फरवरी 2014 से आठ जून 2016 तक कार्यरत थे. जांच में यह बात सामने आयी थी कि भू-अर्जन कार्यालय से 333 करोड़ 44 लाख रुपये की अवैध निकासी हुई थी. वहीं राजीव रंजन सिंह के कार्यकाल में 285 करोड़ 32 लाख रुपये की अवैध निकासी हुई थी.

जांच में यह भी खुलासा हुआ था कि घोटाले में पूर्व एडीएम सह पूर्व जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी भी संलिप्तत थे. इसकी जानकारी मिलते ही पूर्व एसडीएम फरार हो गये. खास बात कि फरार रहते हुए वे 31 अगस्त 2017 को रिटायर भी हो गये. इसी बीच मिल रही जानकारी के अनुसार सीबीआई ने बैंक ऑफ बड़ौदा के पूर्व अकाउंटेंट अलका पांडे, क्रेडिट मैनेजर रिद्धि कुमारी, प्रेम कुमार साह व एके साहू से पूछताछ की है. राशि निकासी को लेकर कुछ बैंककर्मियों के हस्ताक्षर भी मिलाये जा रहे हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*