श्याम रजक ने खाली कर दिया सरकारी बंगला, जाते- जाते सीएम नीतीश से पूछे सवाल, बोले- आरसीपी सिंह और संजय सिंह को क्यों दी है छूट

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार सरकार के पूर्व मंत्री श्याम रजक ने आज अपना सरकारी आवास को खाली कर दिया. बिहार सरकार में मंत्री होने की वजह से श्याम रजक को जो सरकारी बंगला और सुविधाओं मिली थी उसको उन्होंने छोड़ दिया है.

इस दौरान वे नीतीश सरकार पर जमकर हमला किया. श्याम रजक ने कहा कि हमने ऩैतिकता का पालन करते हुए मंत्री और विधायक पद से इस्तीफा देने के बाद आज सरकारी आवास को खाली कर दिया, लेकिन नीतीश कुमार को यह बताना चाहिए कि जब उन्होंने मुख्यमंत्री पद छोड़ा था, तो क्या-क्या सुविधा ली थी.



श्याम रजक ने सीएम नीतीश से सवाल पूछा कि मुख्यमंत्री बतायें किस हैसियत के उनके खास राज्यसभा सांसद आरसीपी सिह सरकारी बंगला में रहते हैं. आरसीपी सिंह के अलावे पूर्व विधान पार्षद संजय सिंह भी सरकारी बंगले में रह रहे हैं. वे किस हैसियत से रह रहे हैं. क्या मुख्यमंत्री नैतिकता दिखायेंगे और उसे बंगला खाली करवायेंगे. पूर्व मंत्री श्याम रजक ने कहा कि कई और ऐसे लोग हैं जो अवैध तरीके से सरकारी बंगला में रह रहे हैं.

श्याम रजक ने कहा कि सरकार में शामिल लोग सिर्फ नैतिकता की बात करते हैं, लेकिन हमने हमेशा नैतिकता दिखायी है. पूर्व पीएम चंद्रशेखर हमारे राजनीतिक गुरु और बाबा साहब अंबेडकर हमारे आदर्श है. जब हम बंगले में आये थे, तो तीन पेड़ थे, बाकी सब मैंने लगाये. हमारा पर्यावरण और प्रकृति के प्रति प्रेम और कर्त्तव्य है. दलितों से संबंधित सवाल हमने सरकारी रिपोर्ट के आधार पर उठाए है.

श्याम रजक पाला बदलने वाले हैं इसको भांपने के बाद जेडीयू ने उनको पार्टी से निकाल दिया था और सीएम नीतीश कुमार ने अपने कैबिनेट से भी बर्खास्त कर दिया था. श्याम रजक ने इसके अगले दिन विधायिकी से भी इस्तीफा दे दिया था और आरजेडी का दामन थाम लिया था. वे इससे पहले भी लंबे वक्त के आरजेडी में रहे हैं और राबड़ी शासनकाल में मंत्री भी रहे हैं. इन दिनों श्याम रजक तेजस्वी यादव के खास सिपाहसलारों में से एक हैं.