TET मामला : 5-5 लाख रुपए में तय हुई थी डील, पकड़ा गया है एक महिला टीचर का हसबेंड

लाइव सिटीज, पटना : टीईटी के तहत फर्जी सर्टिफिकेट और बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड के स्टाफ से सांठगांठ कर टीचर की नौकरी हासिल करने के मामले में पटना पुलिस ने अपनी जांच को और तेज कर दिया है. इस मामले को लेकर शनिवार को कई जिलों में छापेमारी की गई है. फर्जीवाड़ा के इस बड़े खेल में पटना पुलिस की एसआईटी को अभी 13 टीचर्स की तलाश है. इनमें अधिकांश महिलाएं शामिल हैं. मामले के खुलासे के बाद से सभी ने अपना ठिकाना बदल दिया है.

बताया जा रहा है कि इस केस में कई दलाल भी शामिल हैं. ​शामिल दलालों की भी तलाश तेज कर दी गई है. जबकि बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड का एक स्टाफ अब भी फरार है. इस पूरे खेल को लेकर शनिवार को पटना के एसएसपी मनु महाराज ने बड़ा खुलासा किया है. फर्जी तरीके से टीईटी के तहत टीचर की नौकरी हासिल करने के लिए प्रति कैंडिडेट 5 लाख रुपए की डील तय हुई थी. दलालों के माध्यम से इस काम को किया गया था.

TET 2011 फर्जीवाड़े में मनु महाराज ने बनाई SIT, BSEB के 2 कर्मी हुए अरेस्ट

दरअसल, इस बात का खुलासा तब हुआ, जब एसआईटी ने बेगूसराय की रहने वाली एक महिला टीचर के हसबेंड अरूण कुमार को पकड़ा. एसएसपी ने इसे गिरफ्तार किए जाने की पुष्टि कर दी है. पुलिस सोर्स बताते हैं कि अरूण खुद एक प्राइेवट टीचर है. फर्जीवाड़े के इस खेल का ये माहिर खिलाड़ी है. इसने ही दलालों के जरिए सांठगांठ की.

आपको बता दें कि फर्जीवाड़े के इस खेल का खुलासा शुक्रवार को बोर्ड के चेयरमैन आनंद किशोर और एसएसपी मनु महाराज ने ज्वाइंट प्रेस कांफ्रेंस कर किया था. शुरूआती कार्रवाई के दौरान पुलिस ने बोर्ड के दो स्टाफ और बेगूसराय की तीन महिला टीचर को गिरफ्तार किया था. तीन महिला टीचर में गिरफ्तार किए गए अरूण की वाइफ भी शामिल है. एसआईटी अभी अरूण से पूछताछ कर रही है. उम्मीद है कि इस मामले में अभी कई और बड़े खुलासे होंगे. इस मामले में कई और बड़े नाम सामने आने की संभावना है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*