JEE- NEET परीक्षा के खिलाफ कांग्रेस का बिहार में प्रदर्शन, सरकार के खिलाफ की जमकर नारेबाजी

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : जेईई- नीट परीक्षा को लेकर शुरू हुए विवाद थमने का नाम ही नहीं ले रहा है. एक तरफ सरकार का मानना है कि इसे लेकर बेवजह राजनीति हो रही है और अधिकांश छात्र और उनके अभिभावक चाहते हैं कि परीक्षा निर्धारित समय पर आयोजित हो लेकिन इसका विरोध कर रहे हैं छात्राओं का कहना है कि उन्हें कोविड-19 होने का डर है. इसको लेकर आज कांग्रेस देशव्यापी प्रदर्शन कर रही है.

कांग्रेस कार्यकर्ता राज्य और जिला मुख्यालयों पर केंद्र सरकार के कार्यालयों के सामने नारेबाजी कर रहे हैं. साथ ही सोशल मीडिया तक हल्ला बोला जा रहा है और JEE-NEET को टालने की अपील की जा रही है.



बिहार कांग्रेस द्रारा जेईई- नीट की परीक्षा रद्द करने की मांग को लेकर आज पटना के इनकम टैक्स कार्यालय के बाहर कांग्रेस कार्यकर्ता ने जमकर प्रदर्शन किया. कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष ने कहा कि सरकार छात्रों के जीवन के साथ खिलवाड़ करना बंद करे नहीं तो ये प्रदर्शन और उग्र होता चला जाएगा. कांग्रेसियों का कहना है कि कोरोना और बाढ़ जैसी असामान्य स्थितियां पैदा होने के कारण लाखों छात्र परीक्षाओं से वंचित हो जायेंगे, इसलिए ये परीक्षाएं स्थगित होनी चाहिए.

आपको बता दें कि JEE-NEET परीक्षा के विरोध में ऑनलाइन अभियान भी चलाया जा रहा है. सोशल मीडिया पर आज यानी 28 तारीख को ही कांग्रेस की ओर से राष्ट्रव्यापी ऑनलाइन अभियान #SpeakUpForStudentSaftey चलाया जा रहा है. सुबह 10 बजे से वीडियो, पोस्ट के माध्यम से परीक्षा का विरोध किया जा रहा है. आपको बता दें कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लोगों से #SpeakUpForStudentSafety अभियान में शामिल होने की अपील की है.

नीट औऱ जेईई की परीक्षा टालने के लिए झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल को पत्र लिखा है. पत्र में कहा गया है कि कोरोना महामारी को देखते हुए छात्रों और लोकहित में परीक्षा को कुछ दिन के लिए टाला जा सकता है.

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने जी-नीट की परीक्षा कराने के सरकारी फैसले का समर्थन किया है. कहा कि इस परीक्षा से विद्यार्थियों का एक वर्ष बर्बाद होने से बच जाएगा. सरकार हर संभव सावधानी के साथ यह परीक्षा करवा रही है. परीक्षा करवाने के मसले पर सुप्रीम कोर्ट ने भी सरकार के हक में फैसला दिया है. सरकार विद्यार्थियों का कैरियर देख रही है, लेकिन विपक्ष को केवल राजनीति सूझ रही है.