कुछ लोग देश व समाज बांटने पर आमादाः मंगल पांडेय

वरिष्ठ भाजपा नेता और स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: वरिष्ठ भाजपा नेता और स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने छपरा की सभा में विपक्षी दलों पर प्रहार करते हुए कहा कि कुछ लोग सत्ता पाने के लिए देश और समाज को बांटने पर आमादा हैं. कांग्रेस के साथ चुनाव लड़ रही उनकी सहयोगी पार्टियां देश में दो प्रधानमंत्री की वकालत कर रही है, जो एनडीए और भाजपा के रहते संभव नहीं है.

इस संबंध में कांग्रेस और राजद के नेता चुप्पी साधे हुए हैं. श्री पांडेय ने कहा कि छपरा में एनडीए की एक तरफा बयार बह रही है और इस हिसाब से एनडीए के प्रत्याशी राजीव प्रताप रूड़ी की जीत तय है. देश की 130 करोड़ जनता ने मन बना लिया है कि देश को मजबूर नहीं मजबूत प्रधानमंत्री और सरकार चाहिए.

श्री पांडेय ने महागठबंधन को विकास के मुद्दे पर चर्चा करने की चुनौती देते हुए कहा कि इन लोगों को विकास से वास्ता नहीं है. ये लोगों सिर्फ झूठ-सच की राजनीति करते हैं. एनडीए देश की सुरक्षा और विकास के लिए न सिर्फ चिंतित है, बल्कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उस दिशा में लगातार काम कर रहे हैं. कांग्रेस और राजद ने इतने वर्षों तक राज किया, फिर भी दोनों दलों के नेता प्रधानमंत्री से हिंसाब मांग रहे हैं.

श्री पांडेय ने कि सभा में उपस्थित लोगों से कहा कि देश को दागदार नहीं इमानदार प्रधानमंत्री चाहिए. लोकतंत्र में जनता दागदार के साथ नहीं इमानदार के साथ जाना चाहती है और यह तभी संभव होगा जब आप छपरा से एनडीए उम्मीदवार को विजयी बनाकर भेजेंगे.

श्री पांडेय ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के गरीबी हटाने वाली बात पर कहा कि कांग्रेस की चार पीढ़ियों ने भी गरीबी हटाने की बात कही थी, लेकिन देश से गरीबी नहीं हटी, अब पांचवीं पीढ़ी एक बार फिर गरीबी हटाने का झूठा नारा देकर जनता को बरगला रही है, लेकिन जनता सब समझ रही है.

देश के गरीब और गरीबी की अगर चिंता है तो वह गरीब का बेटा देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को है, जिन्होंने गरीब मां-बहनों के दर्द को समझा. प्रधानमंत्री ने गरीब मां-बहनों की आंखों को धुंए से मुक्ति दिलायी. उनके घर एलपीजी बांटे. गरीब और महिलाओं की चिंता प्रधानमंत्री ने करते हुए न सिर्फ घर-घर शौचालय का निर्माण कराया, बल्कि घर-घर बिजली पहुंचाने का भी काम किया.

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*