एडवोकेट पिता की हत्या के बाद बेटे ने तीन लोगों के खिलाफ दर्ज कराई एफआईआर

लाइव सिटीज, पटना/अमित जायसवाल : एडवोकेट हरेंद्र सिंह की हत्या मामले में आज एफआईआर दर्ज करा दी गई है. बुधवार को एडवोकेट के बेटे नौबतपुर थाना पहुंचे. अपनी कंप्लेन लिखी और तीन लोगों को नामजद किया. जिसमें कुल शेखर सिंह, संतोष कुमार और खुशवंत कुमार के नाम शामिल हैं. इन तीनों के साथ एडवोकेट हरेंद्र सिंह का पुराना विवाद चल रहा था. बेटे को शक है कि उसके पिता की हत्या के पीछे इन तीनों का हाथ हो सकता है.

24 घंटे पहले हरेंद्र सिंह की अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. लेकिन अब तक इस मामले में पुलिस के हाथ कोई सफलता नहीं लगी है. पटना पुलिस इस केस की जांच दो एंगल से कर रही है. पहला एंगल एफआईआर के आधार पर है. जबकि दूसरा एंगल बिहटा की एक जमीन से जुड़ा विवाद है. इस जमीन को लेकर चल रहे विवाद की भी जांच की जा रही है. मामले की गंभीरता को देखते हुए खुद एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा बुधवार को नौबतपुर गए. वहां उन्होंने इस केस का रिव्यू किया. कई जरूरी निर्देश दिए.



एक बात तो तय है कि जिस तरीके से वारदात को अंजाम दिया गया है, इसके लिए सुपारी किलर्स को किसी ने हायर किया होगा. मंगलवार को दानापुर कोर्ट जाने के लिए हरेंद्र सिंह अपने घर से निकले थे. लेकिन बीच रास्ते में ही सरारी के पास बाइक सवार दो अपराधियों ने पहले रोका और फिर उनके सीने में गोली मार दी. मौके पर ही एडवोकेट की मौत हो गई. जिस वक्त इस वारदात को अंजाम दिया गया, उस दौरान वहां पूरी तरह से सन्नाटा पसरा हुआ था.

इस कारण पुलिस को अपराधियों तक पहुंचने में मुश्किल हो रही है. दूसरी तरफ इस घटना से पटना जिला के एडवोकेट्स काफी नाराज हैं. तीन दिन तक न्यायिक कार्य में शामिल न होने की पटना जिला बार एसोसिएशन ने घोषणा की है. साथ ही पीड़ित परिवार को 50 लाख रुपए मुआवजा देने की मांग की है.