कुशवाहा के बयान पर भड़का NDA, कहा- हताश है विपक्षी, नहीं ले सकते कानून को अपने हाथ में

लाइव सिटीज, सेन्ट्रल डेस्क:  देश में 23 मई को लोकसभा चुनाव के नतीजे आ रहे हैं. एग्जिट पोल्स के बीच वोटों की गिनती गुरुवार को जारी हो जाएगा. इससे पहले बिहार में महागठबंधन के नेताओं ने संयुक्त रूप से प्रेस कांफ्रेंस किया. इस दौरान रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा ने एक विवादित बयान दे दिया. उन्होंने कहा कि एग्जिट पोल और सरकार के इस कार्य से जनता में आक्रोश पनप रहा है. यही रवैया जारी रहा तो जनता का आक्रोश नहीं संभालने वाला तो रोड पर खून बहेगा.

रालोसपा नेता उपेन्द्र कुशवाहा के इस बयान के बाद बिहार में वार पलटवार का दौर शुरू हो गया है. कुशवाहा के बयान पर एनडीए के कई नेताओं ने उनपर निशाना साधा है. इस मामले में लोजपा नेता व जमुई सांसद चिराग पासवान ने कहा है कि ये विपक्षी पार्टियों की हताशा है. हम इसकी घोर निंदा करते हैं. उन्होने कहा कि इस तरह की बयानबाजी नहीं होनी चाहिए. वहीं जदयू प्रवक्ता अजय आलोक ने तंज कसते हुए कहा कि खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे. वे ऐसा बयान हताशा में दे रहे हैं 23 मई को जब ईवीएम बोलेगा तो ये लोग और डोल जाएंगे.

उपेन्द्र कुशवाहा के बयान पर बीजेपी के प्रवक्ता प्रेमरंजन पटेल ने कहा कि अब बिहार में माहौल बदल गया है. उन्होंने कहा है कि यहां किसी को भी कानून को हाथ में लेने की इजाजत नहीं है. प्रेमरंजन पटेल ने आगे कहा कि विरोधी दलों की हताशा का परिणाम बताते हुए कहा कि  इस तरह के बयान से कोई फायदा नहीं होगा. चुनाव नतीजों का इंतजार कीजिए और समझने की कोशिश कीजिए कि  आखिर जनता ने ऐसा क्यों किया.

गौरतलब है कि मंगलवार को महागठबंधन ने संयुक्त रूप से प्रेस कांफ्रेंस किया. इस दौरान रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा ने एग्जिट पोल पर सवाल उठाते हुए कहा कि एक्जिट पोल से भ्रम पैदा करने की कोशिश हो रही है. बीजेपी के नेता षडयंत्र कर रहे हैं. उसी षडयंत्र का हिस्सा एक्जिट पोल है. मनोवैज्ञानिक दवाब बना रहे. हम एक्जिट पोल को सिरे से खारिज करते हैं. उन्होंने आगे कहा कि पहली बार रिजल्ट लूट का प्रयास किया जा रहा है, जो इतिहास में पहली बार हो रहा है. लेकिन बीजेपी कुछ नहीं चलने वाला है. जो रिपोर्ट है जिसमें अधिकांश सीट पर हम जीत रहे हैं. रिजल्ट लूट की घटना हुई तो हथियार भी उठा सकते हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*