सफाई कर्मियों की कार्य दक्षता मजबूती के लिए विशेष ट्रेनिंग, टीकाकरण पर राजधानी के लोगों को जागरूक करेंगी छह टीमें

लाइव सिटीज, पटना: सफाई कर्मियों को स्वास्थ्य, सुरक्षा एवं उनके संवैधानिक अधिकारों के बारे में जागरुक करने तथा उनकी कार्य क्षमता वर्धन के लिए पटना नगर निगम प्रशिक्षण दे रहा है. यह पूरा कार्यक्रम नगर निगम एवं संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष की संयुक्त पहल से शुरू हुआ है. कार्यक्रम के तहत तीन दिन में करीब 1300 सफाई कर्मी प्रशिक्षत किए गए. साथ ही प्रशिक्षण पूर्ण होने पर सभी सफाई कर्मियों को मास्क एवं साबुन भी वितरित किए गए. क्षमता वर्धन प्रशिक्षण के तहत सफाई कर्मियों के लिए वार्ड वार रोस्टर तैयार किया गया है. प्रति दिन ड्यूटी शुरू होने से पहले एवं ड्यूटी खत्म होने के बाद, दो पालियों में एक-एक घंटे की ट्रेनिंग सफाई कर्मियों को दी जाएगी.

सोमवार को प्रशिक्षण कार्यक्रम के पहले दिन कुल 495 कर्मियों को ट्रेनिंग दिया गया. नूतन राजधानी अंचल में 65, पाटलिपुत्र अंचल में 100, कंकड़बाग अंचल में 55, बांकीपुर अंचल में 80, अजीमाबाद अंचल में 130 एवं पटना सिटी अंचल में 65 कर्मियों ने प्रशिक्षण प्राप्त किया. प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत यूनएफपीए द्वारा कुल छह टीमों का गठन किया है. सभी टीम में एक प्रशिक्षक एवं तीन समन्वयक हैं. मंगलवार को प्रशिक्षण कार्यक्रम के दूसरे दिन कुल 384 सफाई कर्मी प्रशिक्षित हुए. इनमें नूतन राजधानी अंचल से 42, पाटलिपुत्र अंचल से 80, कंकड़बाग अंचल से 58, बांकीपुर अंचल से 60, अजीमाबाद अंचल से 70 एवं पटना सिटी अंचल से 74 सफाई कर्मियों ने भाग लिया. बुधवार को प्रशिक्षण कार्यक्रम के तीसरे दिन कुल 416 सफाई कर्मी लाभान्वित हुए. इनमें नूतन राजधानी अंचल से 45, पाटलिपुत्र अंचल से 73, बांकीपुर अंचल से 70, कंकड़बाग अंचल से 60, अजीमाबाद अंचल से 84 एवं पटना सिटी अंचल से 84 सफाई कर्मी शामिल हुए. सफाई कर्मियों के स्वास्थ्य हित में सीवर, सेप्टिक टैंक, नाले की सफाई, अपशिष्ट प्रबंधन, सैनेटाइजेशन, फॉगिंग आदि कार्य मशीन के माध्यम से पूर्ण करने के लिए पटना नगर निगम प्रतिबद्ध है.

इस कार्य के लिए विगत वर्षों में पटना नगर निगम द्वारा विभिन्न क्षमता की मशीनों, कर्मियों के लिए सेफ्टी गियर आदि का क्रय किया जा चुका है. आवश्यतानुसार भाड़े पर भी मशीनों का प्रबंध कर सफाई कार्यों में उपयोग किया जा रहा है. इससे ना केवल निगम का प्रदर्शन बेहतर हुआ है बल्कि सफाई कर्मियों के स्वास्थ्य और उत्पादकता में भी वृद्धि आई है. इसी कड़ी में निगम द्वारा सफाई कर्मियों को ड्यूटी प्रारंभ करने से पहले कोविड प्रोटोकॉल, सफाई कार्यों के निष्पादन के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों, स्वास्थ्य, सुरक्षा एवं संवैधानिक अधिकारों के बारे में बताया जा रहा है. वहीं, ड्यूटी खत्म होने के बाद उन्हीं कर्मियों को मशीन के माध्यम से सीवर, सेप्टिक टैंक आदि की सफाई के संदर्भ में प्रशिक्षण दिया जा रहा है. दो पालियों के बीच की अवधि में यूएनएफपीए की टीम द्वारा संबंधित अंचल में घूम-घूम कर आम जन को कोविड-19 टीकाकरण एवं कोविड प्रोटोकॉल के पालन के लिए जागरूक किया जा रहा है. मुख्यत: स्लम में रहने वालों के बीच जाकर विशेषज्ञों द्वारा टीकाकरण का लाभ, डोज एवं टीकाकरण के उपरांत बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में जागरूक किया जा रहा है. जिंगल, वीडियो एवं बिहार की नामचीन हस्तियों की संदेश के माध्यम से बस्ती में रहने वालों को कोविड-19 वायरस के संक्रमण से बचाव की दिशा में टीका लेने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है.