बिहार के दो बड़े आर्म्स डीलर पकड़े STF ने, AK-47 के साथ मिली हजार से ज्यादा गोलियां

STF-ARMS1
STF की पकड़ में आये कुख्यात आर्म्स डीलर

पटना : एसटीएफ को बड़ी कामयाबी मिली है. नक्सलियों और अपराधियों को लेटेस्ट हथियार और गोली बेचने वाले पर शिकंजा कसा है. बिहार के दो बड़े हथियार तस्करों को गिरफ्तार किया है. इन लोगों ने गुप्त तरीके से हथियार और गोलियों की दुकान खोल रखी थी. नक्सली और अपराधी गुप्त तरीके से आते थे और मुहमांगी कीमत देकर हथियार व गोली ले जाते थे.

एसटीएफ को ये बड़ी सफलता मंगलवार की सुबह मिली. एसटीएफ की एसओजी ने मुंगेर के मुफ्फसिल इलाके में छापेमारी की थी. जिन दो बड़े तस्करों को गिरफ्तार किया गया है, उनके नाम सनोज यादव और संजीव सिंह है. ये दोनों लंबे समय से हथियारों की तस्करी कर रहे हैं. इनके बारे में एसटीएफ को लगातार सूचना मिल रही थी. जिसके बाद से ही इन दोनों के मूवमेंट पर गुप्त तरीके से कड़ी नजर रखी जाने लगी.



STF-ARMS11
बरामद हथियारों की खेप

टीम ने आज इन्हें पकड़ लिया. हथियार की तलाश में इनके निशानदेही पर छापेमारी हुई. इस दौरान नजारा थोड़ा हैरान करने वाला था.इन तस्करों ने हथियार और गोली को झोपड़ी के पीछे गड्ढा में छिपा रखा था. एसटीएफ की टीम ने गड्ढे से एक AK-47, एक सेमी ऑटोमेटिक रायफल, 5 पिस्टल, बड़ी संख्या में आधे बने हुए हथियार और 1000 से भी गोली बरामद की.

बरामद हथियार

नागालैंड से जुड़ा कनेक्शन

अपनी जांच और तस्करों से पूछताछ में एसटीएफ को एक खास जानकारी मिली है. हथियारों की सौदागरी का कनेक्शन नागालैंड से जुड़ गया है. दरअसल, गिरफ्तार संजीव सिंह के पिता का नागालैंड में लाइसेंसी हथियार की दुकान है. सम्भावना जताई जा रही है कि लाइसेंसी दुकान सिर्फ दिखावे का हो. इस बात को लेकर जांच शुरू कर दी गई है.

भारी संख्या में मिले आधे बने हथियार और कारतूस

एक बात और है. हथियार तस्करी के मामले में ये दोनों पहले भी गिरफ्तार हो चुके हैं और जेल जा चुके हैं. जेल से बाहर आने के बाद फिर से वही धंधा शुरू कर दिया.

बेंगलुरु में हफ्ते भर से लापता है पटना का IT इंजीनियर, देने गया था Olx पर बिकी अपनी कार
चलती स्कॉर्पियो पर ढह गया बालू लदा हाईवा, ड्राइवर समेत धंस गई गाड़ी