Big Breaking : कोरोना को लेकर पटना हाईकोर्ट की कड़ी टिप्पणी, कहा- सेना के हवाले की जाए स्वास्थ्य सेवा, स्थिति में सुधार नहीं होना शर्म की बात

लाइव सिटीज, पटना : बिहार में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को लेकर पटना हाईकोर्ट सख्त हो गया है. मंगलवार को सुनवाई करते हुए पटना हाईकोर्ट ने कड़ी टिप्पणी की है. कोर्ट ने साफ-साफ कहा है कि बिहार की स्वास्थ्य सेवा को सरकार सेना के हवाले करे. आज पटना हाईकोर्ट में जस्टिस सीएस सिंह के खंडपीठ ने इस मामले की सुनवाई की. कोर्ट ने राज्य सरकार की असफलता पर कड़ी नाराजगी जताई.

दरअसल, पटना हाईकोर्ट ने कोरोना की वर्तमान स्थिति पर सुनवाई करते हुए कल कहा था कि बिहार में लॉकडाउन को लेकर 24 घंटे के अंदर जवाब दे. जवाब दाखिल करने के लिए आज का समय दिया गया था. आज निर्धारित समय पर राज्य सरकार ने कोरोना मामले पर पटना हाईकोर्ट में सूबे में लॉकडाउन लगाने के निर्णय की जानकारी दी.

राज्य सरकार ने जस्टिस सीएस सिंह के खंडपीठ को बताया कि बिहार में 5 मई से लेकर 15 मई तक लॉकडाउन लगाने का निर्णय लिया गया है. इस पर कोर्ट ने राज्य सरकार की कोरोना से निबटने में असफल होने वाले गहरी नाराजगी जताई. कोर्ट ने यह भी कहा कि बार-बार कोर्ट के आदेश के बाद स्थिति में सुधार नहीं होना शर्म की बात है. ऐसी स्थिति में राज्य की स्वास्थ्य सेवा को सेना को सौंप दिया जाना चाहिए. इस मामले पर अगली सुनवाई 6 मई को होगी.

गौरतलब है कि जाप सुप्रीमो पप्पू यादव भी बार-बार केंद्र से मांग कर रहे थे कि बिहार में स्वास्थ्य सेवा बदतर हो गई है. लोग मर रहे हैं. मौत के सौदागर मरीजों को लूटने में लगे हैं. स्थिति से निबटने के लिए बिहार की स्वास्थ्य सेवा को सेना के हवाले किया जाए. और आज पटना हाईकोर्ट ने भी बिहार सरकार को फटकार लगाई है. दो टूक कह दिया कि सूबे में स्वास्थ्य सेवा को सेना के हवाले किए जाने की जरूरत है.