हूनरमंद युवा कभी भूखा और बेरोजगार नहीं रह सकता : सुशील कुमार मोदी

लाइव सिटिज, सेंट्रल डेस्क : ‘विश्व युवा कौशल दिवस’ पर ज्ञानभवन में आयोजित राजकीय समारोह को सम्बोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि भारत एक युवा देश है क्योंकि इसकी 65 प्रतिशत आबादी की उम्र 35 वर्ष है. आज हूनर (ैपसस) का जमाना है और जिनके पास हूनर है वैसे युवा कभी भूखा और बेरोजगार नहीं रह सकते हैं. अगले 10 वर्षों के बाजार व इंडस्ट्री की जरूरतों की मैपिंग कर कार्यबल को प्रशिक्षित करने की आवश्यकता है. आने वाला दिन इलेक्ट्रिक गाड़ियां,सोलर, रोबोटिक्स तथा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का होगा, हमें अपने कोर्स को भी इसके अनुरूप बनाने की जरूरत है.

मैन पावर की प्रचूरता के बावजूद भारत के कुल कार्यबल का मात्र 5 प्रतिशत ही प्रशिक्षित है जबकि चीन का 24, अमेरिका का 52, इंग्लैण्ड का 68, जर्मनी का 75, जापान का 80 और साउथ कोरिया का 96 फीसदी कार्यबल ट्रैंड हैं.

उन्होंने कहा कि बिहार के सभी 38 जिलों में सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज और 44 पॉलीटेक्नीक की स्थापना कर दी गयी है जहां से प्रतिवर्ष 9500 इंजीनियर और 11 हजार डिप्लोमाघारक उत्तीर्ण होंगे. राज्य में 135 राजकीय व एक हजार से अधिक निजी आईटीआई तथा हर मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में बीएससी नर्सिंग की पढ़ाई शुरू कर दी गयी है. इसके अलावा एएनएम, जीएनएम तथा पारा मेडिकल की पढ़ाई भी शुरू की गई है. राज्य सरकार के कुशल युवा कार्यक्रम के तहत प्रत्येक साल ढाई से तीन लाख युवाओं को 240 घंटे का सामान्य कम्प्यूटर, संवाद कौशल के तहत हिन्दी-अंग्रेजी संभाषण आदि की ट्रैनिंग दी जा रही है.

आईटीआई पास छात्रों को मात्र हिन्दी और अंग्रेजी के एक-एक पेपर की परीक्षा देकर उत्तीर्ण होने पर इंटर के समकक्ष की मान्यता दे दी जायेगी, इससे उन्हें रोजगार मिलने में सुविधा होगी.

मोदी ने कहा कि अगर 20 वीं सदी आईआईटी की थी तो 21 वीं शताब्दी आईटीआई की होने वाली है. पूरी दुनिया हमारी युवाशक्ति व हूनरमंद कार्यबल का इंतजार कर रही है. जब तक हाथ से काम करने वालों को समाज में सम्मान-प्रतिष्ठा नहीं मिलेगा तब तक देश आगे नहीं बढ़ सकता है.

About परमबीर राजपूत 2407 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*