लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: समाज में शिक्षक से बड़ा कोई नहीं हो सकता क्योंकि शिक्षक राष्ट्रनिर्माता है. बिहार के नवनिर्माण में भी शिक्षकों की भूमिका अहम है. ये बातें मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित विधान पार्षद प्रो (डॉ) नवल किशोर यादव ने राजधानी के कंकड़बाग स्थित रघुनाथ प्रसाद बालिका उच्च विद्यालय में वरीय शिक्षक डॉ रामनारायण सिंह के सेवानिवृत के अवसर पर आयोजित सम्मान सह विदाई समारोह में कही.

उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में एक बार फिर शिक्षक अपने संघर्ष, मेहनत, आचरण व आदर्श से समाज में अपनी लकीर खुद खींचे.

समारोह का उद्घाटन विधान पार्षद प्रो (डॉ) नवल किशोर यादव, स्थानीय विधायक अरुण कुमार सिन्हा, वार्ड पार्षद पिंकी यादव, बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के शैक्षिक परिषद के सचिव शशिभूषण दूबे, प्राच्य प्रभा के प्रधान संपादक विजय कुमार सिंह, संघ के मीडिया प्रभारी सह प्रवक्ता अभिषेक कुमार, पूर्व प्राचार्य विंदेश्वरी प्रसाद सिंह, पटना जिला माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष मोख्तार सिंह ने संयुक्त रूप दीप प्रज्ज्वलित कर किया.

समारोह की अध्यक्षता करते हुए विधायक अरुण कुमार सिन्हा ने कहा कि शिक्षक कभी सेवानिवृत नहीं होता है बल्कि पदमुक्त होने के बाद उसकी भूमिका और भी बढ़ जाती है. उन्होंने कहा कि शिक्षक का व्यवहार व आचरण समाज के लिए हमेशा आदर्श होता है और सही मायने में शिक्षक ही समाज के रॉल मॉडल होते हैं.

सेवानिवृत हुए शिक्षक डॉ रामनारायण सिंह ने अपने संबोधन में गीता का स्लोक को उद्रित करते हुए कहा कि बिना फल की चिंता किये हुए सबों को अपना कर्म सदा करते रहना चाहिए, इसी में स्वयं के साथ-साथ समाज और राष्ट्र का भला है.

स्कूल की प्राचार्या डॉ निर्मला देवी ने अपने स्वागत संबोधन में कहा कि डॉ रामनारायण सिंह के अनुभव व विद्वता का लाभ हमेशा विद्यालय परिवार को मिलता था जिसकी कमी अब खलेगी. समारोह में सभी अतिथियों का स्वागत विद्यालय के वरीय शिक्षक डॉ आशुतोष कुमार ने पुष्पगुच्छ प्रदान कर किया. धन्यवाद व्यक्त वरीय शिक्षक यतींद्र कुमार ने किया जबकि मंच संचालन डॉ रामनारायण यादव व श्रीमती नूतन सिन्हा ने किया.

इस मौके पर विद्यालय की संगीत शिक्षिका श्रीमती मालती भास्कर के नेतृत्व में विद्यालय की छात्राएं खुशी, छोटी, वर्षा, अंकिता, नेहा, पूजा, तन्नु, सुमन, कोमल आदि स्वागत गान सहित अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत सबों का मन मोहा.

समारोह में पटना जिला माध्यमिक शिक्षक संघ के सचिव सुधीर कुमार, मूल्यांकन सचिव जितेंद्र कुमार, राज्य पार्षद डॉ मृत्युंजय कुमार, डॉ अरुण दयाल, आइस्टा के सचिव डॉ रवींद्र कुमार सिन्हा, प्राचार्या विजय लक्ष्मी, डॉ नीरा यादव, डॉ सुषमा रानी सिन्हा, मणिशंकर सिंह, श्यामसुंदर कुमार, गौतम महात्मा, सुबोध कुमार, गौरीशंकर समेत विभिन्न विद्यालयों के शिक्षक व शिक्षिकाएं व छात्र व छात्राएं मौजूद थीं.