लोकसभा चुनाव तक स्थगित हो बेस्ट मोबाइल एप से निरीक्षण कार्य : माध्यमिक शिक्षक संघ

shatru

लाइव सिटीज, पटना : बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ ने शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव से बेस्ट मोबाइल एप के माध्यम से अनुश्रवण व निरीक्षण कार्य फिलहाल स्थगित रखने का आग्रह किया है. इसके अंतर्गत राज्य के जिला शिक्षा पदाधिकारियों को 11 फरवरी से ही माध्यमिक व उच्च माध्यमिक विद्यालयों का बेस्ट (बिहार इजी स्कूल ट्रैकिंग) मोबाइल एप से अनुश्रवण व निरीक्षण करने का निर्देश दिया गया है. संघ ने अपर मुख्य सचिव से इस आदेश पर पुनर्विचार तथा इसे तत्काल स्थगित करने की मांग की है.

इस संबंध में बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के महासचिव सह पूर्व सांसद शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ने शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव को पत्र लिखा है. उन्होंने इस पत्र में कहा है कि आप इस तथ्य से अवगत हैं कि 6 फरवरी से इंटर की परीक्षा हो रही है. इसके बाद 21 फरवरी से मैट्रिक की परीक्षा होगी. इन परीक्षाओं में विद्यालय के अधिकांश शिक्षक वीक्षण कार्य में लगे हैं.

उन्होंने कहा कि इसी बीच निर्वाचन आयोग के निर्देश पर प्रत्येक विद्यालय से शिक्षकों की सूची उनके प्रशिक्षण के लिए प्राप्त की जा रही है. यह हमारी आपकी संवैधानिक प्रतिबद्धता है कि निर्वाचन आयोग का आदेश अनिवार्यत: पालन करना है. साथ ही इसी दौरान इंटर एवं मैट्रिक का मूल्यांकन भी बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा संपादित किया जायेगा, जिसमें सभी शिक्षक परीक्षक के रूप में अपने दायित्वों का निर्वहन करेंगे.

उन्होंने कहा कि इस आदेश में शिक्षकों को छात्र-छात्राओं को घर-घर जा कर विद्यालय में उपस्थित करवाने की जबावदेही दी गई है. हकीकत है कि परीक्षा प्रारंभ होने के पूर्व से छात्र-छात्राओं का विद्यालय में आना प्राय: बंद हो जाता है. विद्यालयों में विषय शिक्षकों का अभाव पिछले कई वर्षों से है. उन्होंने कहा कि संघ निरीक्षण का हमेशा स्वागत करता है पर निरीक्षण विद्यालयों की कमियों, समस्याओं के निराकरण तथा सुधारात्मक होना चाहिए.

विद्यालयों में पढ़ाये जाने वाले विषय विशेषज्ञों द्वारा ही अध्ययन-अध्यापन का निरीक्षण करना औचित्यपूर्ण होगा. राज्य की शिक्षा में गुणात्मक विकास के लिए संघ ने शिक्षा विभाग को विस्तृत लिखित सुझाव सौंपा था पर उस पर विचार विमर्श किये बिना इस तरह का आदेश जारी कर दिया गया. उन्होंने कहा कि सबसे दुखद स्थिति यह है कि अल्प वेतनभोगी शिक्षकों को 6-6 महीनों तक वेतन देने में सरकार विफल रहती है. वे आर्थिक परेशानियों से विद्यालय और घर के अंदर प्रताड़ित होते रहते है. इन समस्याओं पर विभाग हमेशा मौन रहता है.

बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के महासचिव सह पूर्व सांसद शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ने शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव से अनुरोध किया है कि इंटर व मैट्रिक परीक्षा, मूल्यांकन तथा लोकसभा चुनाव तक इस आदेश को स्थगित किया जाए तथा व्यापक विचार-विमर्श के बाद किसी प्रकार का निर्देश दिया जाए जिससे राज्य में शिक्षा के गुणात्मक विकास को गति मिल सके.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*