बोले तेजस्वी- विधानसभा हंगामे में ‘नालंदा मॉडल के अधिकारियों’ की जांच क्यों नहीं? 2 पुलिसवाले बने बलि का बकरा

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: दिल्ली से पटना लौटे नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने पटना एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान विधानसभा में 23 मार्च को हुई घटना में हुई कार्रवाई को लेकर सरकार पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि इस मामले में जो भी कार्रवाई हुई है, वह सिर्फ आई वॉश है. इसमें कार्रवाई करने के नाम पर पुलिसकर्मियों को बलि का बकरा बनाया गया है.

बिहार विधानसभा में विधायकों की पिटाई को सबने देखा. इस मामले में जो भी कार्रवाई की गई है, वह सिर्फ आई वॉश है. जिस तरह की कार्रवाई सरकार ने की है, और जिसपर कार्रवाई की गई है, उसे बलि का बकरा बनाया गया है. जबकि सैकड़ों पुलिसकर्मियों के द्वारा विधानसभा में बर्बर अत्याचार को सबने देखा था. लेकिन महज दो पुलिकर्मियों को सस्पेंड किया गया. आखिर उन पुलिसकर्मियों को आदेश किसने दिया था. कार्रवाई तो उसपर होनी चाहिए

तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश कुमार को आरएसएस और बीजेपी के सामने कुछ कहने की हैसियत नहीं है. आप किससे कह रहे हैं? आप तो खुद सरकार के हिस्सेदार हैं. अगर केन्द्र सरकार नहीं करती है, तो राज्य सरकार अपने खर्चे से करा ले. नीतीश कुमार तो महंगाई पर भी गौर नहीं करते हैं. पता नहीं कितना साल उन्हें लगा गौर करने में. बिहार में बेरोजगारी राष्ट्रीय औसत से तीन गुणा ज्यादा है. बिहार में ही सबसे ज्यादा वैक्सीन बर्बाद हुए हैं. नीतीश कुमार केवल युवा विरोधी नहीं हैं, बल्कि विकास विरोध भी हैं