विपक्षी नेताओं को चैनल डिबेट में जाने से रोकना चाहते हैं तेजस्वी, 24 दलों को लिखा पत्र

तेजस्वी यादव (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष और राजद नेता तेजस्वी यादव ने 24 विपक्षी दलों को पत्र लिख कर अनुरोध किया है कि भाजपा के एजेंडे पर काम करने वाले टीवी चैनलों के डिबेट को सामुहिक रूप से बॉयकॉट किया जाये. जस्वी ने कुछ टीवी  चैनल्स की डिबेट में बीजेपी के पक्ष में झुकाव का आरोप लगाया है.

नेता प्रतिपक्ष ने यह पत्र राहुल गांधी, मायावती, अखिलेश यादव, अरविंद केजरीवाल, असदुद्दीन ओवैसी, उपेंद्र कुशवाहा,ममता बनर्जी,चंद्राबाबू नायडू, सीताराम येचुरी,शरद पवार, सुधाकर रेड्डी, महबूबा मुफ्ती,एमके स्टालिन, फारूक अब्दुल्ला,दिपांकर भट्टा चार्य, के चंद्रशेखर राव,अ जित सिंह, एचडी देवेगौड़ा, हेमंत सोरेन, जीतन राम मांझी, बाबू लाल मरांडी, बदरुद्दीन अजमल, ओमप्रकाश चौटाला औऱ ओमप्रकाश राजभर को लिखा है.

तेजस्वी की लिखी चिट्ठी कुछ यूं है :

प्रिय मित्रों…

”मैं आप सबको ये पत्र कई समाचार चैनल्स पर शाम के वक्त होने वाली चर्चा को लेकर लिख रहा हूं. जैसा कि आप जानते हैं इन चैनल्स पर हर रोज शाम के वक्त एक खास उद्देश्य के तहत विपक्षी पार्टियों को बदनाम करने का कुचक्र रचा जाता है. अब ये एक प्रत्यक्ष सत्य है कि मीडिया का एक बड़ा तबका बीजेपी को चुनावी फायदा पहुंचाने के लिए काम कर रहा है. किसी भी डिबेट में इस बात की उम्मीद की जाती है कि विपक्षी पार्टियां भी किसी मुद्दे पर अपनी राय रख सकेंगी. लेकिन जिस तरह से डिबेट को आगे बढ़ाया जाता है, उसमें साफ दिखता है कि उनका झुकाव सिर्फ एक पार्टी को फायदा पहुंचाने को लेकर है.

ऐसे हालात में मुझे नहीं लगता है कि इन न्यूज चैनल्स पर निष्पक्ष बहस की कोई गुंजाइश भी बची है. इन डिबेट्स में विपक्षी नेताओं की मौजूदगी सिर्फ इस वजह से रखी जाती है, जिससे कि वे अपनी झूठ पर फर्जी विश्वसनीयता का पर्दा डाल सकें. मुझसे कई सीनियर पत्रकारों ने भी कहा है कि ऐसे चैनल्स में पत्रकारिता के मानदंडों को पूरी तरह से ताक पर रख दिया गया है.”

जेडीयू ने लगाई उम्मीदवारों पर मोहर, केसी त्यागी बोले – मतदाताओं के बीच मनाएंगे होली

तेजस्वी की आशंका कितनी सही है इस पर भी एक डिबेट की गुंजाइश बनती है. वैसे, खुद नेताओं की विश्वसनीयता पर भी अनगिनत सवाल रहे हैं. लेकिन जो एक बात तय है वह ये कि अगर मीडिया को लेकर ऐसे सवाल उठे हैं, तो फिर मंथन की जरूरत वहां भी है.

About परमबीर सिंह 803 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*