सहयोगियों पर तेजस्वी ने साधी चुप्पी, घटक दलों के बारे में बोलने से कर रहे परहेज

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार में विधानसभा चुनाव के पहले सियासी उठापटक जारी है. महागठबंधन का गांठ अब धीरे-धीरे खुलता नजर आ रहा है. हम प्रमुख जीतन राम मांझी के एनडीए में जाने के बाद अब रालोपसा भी पाला बदलने के फिराक में दिख रहे हैं. जानकारी के मुताबिक रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा इन दिनों महागठबंधन से नाराज चल रहे हैं.

उधर, आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान उन्होंने नीतीश कुमार और बीजेपी पर जमकर हमला बोला. लेकिन जब पत्रकारों ने महागठबंध के संबंध में सवाल पूछा, तब उन्होंने इस मुद्दे पर चुप्पी साध ली. बता दें कि आरजेडी और कांग्रेस जिस कृषि बिल का विरोध कर रही है, रालोसपा उसके समर्थन में है. इसको लेकर कुशवाहा और तेजस्वी यादव के बीच कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है.



अपने पीसी में तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार में चुनाव जितना नजदीक आएगा, नीतीश कुमार जी को उतना ही बिहारियों पर प्यार उमरेगा. उन्होंने ये भी कहा कि अब तो स्थिति ऐसी है कि जो गैर बिहारी हैं, वे ही बिहार का माला जप रहे हैं. आरजेडी नेता ने कहा कि नीतीश कुमार की सरकार ने अब तक बिहार को विशेष राज्य का दर्जा नहीं दिला सकी है. जब से एनडीए के साथ जुड़े हैं, इस मुद्दे को वे भूल चुके हैं. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन में बिहारी मजदूरों की स्थिति क्या थी, ये किसी से छिपी नहीं है. इसके बावजूद बिहार सरकार जनता से झूठ बोलती रही.

आरजेडी नेता ने आगे कहा कि बिहार की जनता नीतीश कुमार का पूरा हिसाब करेगी. उन्होंने कहा कि बिहार सरकार ने जनता के भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया है. उन्हें इसका पूरा हिसाब देना होगा. बता दें कि आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियों के बीच तल्खी देखी जा रही है. चुनाव आयोग ने अभी तक चुनाव के तारीखों का ऐलान बी नहीं किया है. लेकिन उससे पहले ही बिहार की सियासत चरम पर है.