सीएम नीतीश के नाम तेजस्वी का खुला ख़त, पूछ दिया है बड़ा सवाल

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बिहार के सीएम नीतीश कुमार के नाम फिर एक चिट्ठी लिखी है. इस चिट्ठी में तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार से कुछ सवाल पूछे हैं. उन्होंने कहा है कि डबल इंजन सरकार में बिहार को विशेष राज्य का दर्जा, विशेष पैकेज और केंद्रीय योजनाओं में प्राथमिकता कब मिलेगी ? बिहार को उसका वाजिब हक क्यों नहीं मिल रहा ? तेजस्वी ने इस चिट्ठी के जरिये नीतीश को कहा है कि कुर्सी के ख़ातिर अपमानित होने से अच्छा है, इस्तीफ़ा दे दीजिये.

तेजस्वी ने आगे कहा कि पटना में भरे मंच से आपके द्वारा बार-बार मिन्नतें करने के बावजूद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने से इनकार कर दिया था. उसके एवज में प्रधानमंत्री ने जो विशेष आर्थिक सहायता पटना विश्वविद्यालय को देने का वादा किया था उसे आज तक पूरा नहीं किया है? क्या यही आपकी हैसियत है कि आप 100 वर्ष पुराने पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा तक नहीं दिला सकते? प्रधानमंत्री को उनका बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने का टेप और video क्यों नहीं दिखाते? जैसा आप 15 लाख सबके खाते में डालने वाले थे? प्रधानमंत्री जी ने 2015 के विधानसभा चुनावों में बिहार के लिए 1 लाख 65 हज़ार करोड़ के गगनचुंबी प्रधानमंत्री विशेष पैकेज की घोषणा की थी.



सूबे के मुखिया होने के नाते आप बताएं कि उनमें से कितनी घोषणाएं पूर्ण हुई और कितनी ऐसी परियोजनाएं हैं जिनका अभी शिलान्यास भी नहीं हुआ है और पैकेज में से कितनी राशि राज्य सरकार को प्राप्त हुई है?

मुख्यमंत्री जी, अपने मंत्रिमंडल में शामिल BJP के 11 मंत्रियों और ज्ञानी-ध्यानी उपमुख्यमंत्री को दिल्ली दौड़ाइये. अगर ये लोग आपके अपमान, बेबसी और लाचारी को देखकर भी अपनी पार्टी से बिहार को केंद्रीय मदद दिलाने में असफ़ल है तो इन्हें मंत्रिमंडल से तुरंत बर्खास्त करिए. बिहार का अहित सोचने वाले ऐसे नाकारा मंत्रियों को हटाने में किस बात का डर? आपके चेहरे पर तो सरकारें बनती है ना? फिर अकेले चुनाव लड़ने में क्या डर? अगर आपने 15 वर्ष कथित विकास किया है तो लड़िए अकेले?

क्या आप जवाब दे सकते है कि विगत वर्ष बिहार में दो बार भीषण बाढ़ आयी लेकिन केंद्र से क्या मदद मिली? आपने केंद्र से कितने की मांग की और मिला कितना? बिहार से छोटे और तुलनात्मक रूप से बाढ़ से कम नुक़सान वाले दूसरे राज्यों को दी गई मदद बिहार से कई गुना अधिक है. कर्नाटक को 3000 करोड़ तो एमपी को 1700 करोड़ मिले लेकिन बिहार की डबल इंजन वाली ट्रबल सरकार को मात्र 400 करोड़ ही दिए. क्या यह आपका अपमान है या बिहार का? अगर आपका अपमान है तो कृपया इसके चलते बिहार का नुक़सान ना करिए? शायद वो आपको ब्याज सहित जनादेश चोरी का लाभ चुकता कर रहे है.

याद किजीए, 2008 में आदरणीय लालू जी ने संकीर्ण राजनीति से ऊपर उठते हुए नकारात्मकता से परिपूर्ण अवसरवादी बिहार सरकार को लोकहित राजनीति का पाठ पढ़ाते हुए कुछ ज़िलों तक सीमित कोसी त्रासदी के समय केंद्र से पर्याप्त सहायता बिहार को दिलाई थी. यूपीए सरकार के कार्यकाल के दौरान लालू जी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री सरदार मनमोहन सिंह और यूपीए अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधी जी के सहयोग से बिहार के विकास कार्यों के लिए 1 लाख 44 करोड़ की सहायता राशि दिलवाई थी. लेकिन अभी डबल इंजन की सरकार में बिहार को क्या मिला?

मोदी सरकार ने आपको इतना कमज़ोर और मजबूर कर दिया है कि आप ख़ुशी-ख़ुशी आर्टिकल 370, तीन तलाक़, सीएए, एनआरसी और एनपीआर का समर्थन कर रहे है और साथ ही साथ बिहार का वित्तीय नुक़सान भी झेल रहे है. अच्छा हुआ देश की आवाम ने इस बहाने आपकी सिद्धांतहीन कुर्सीवादी राजनीति और वर्षों से छद्म धर्मनिरपेक्ष होने के प्रपंच को पहचान लिया है.