कहीं पे निगाहें कहीं पर निशाना, बिहार में JDU और BJP में फिर बढ़ने लगा झगड़ा, नीरज कुमार ने दिया करारा जवाब

लाइव सिटीज पटना: भारतीय सेना में भर्ती के लिए केंद्र सरकार द्वारा लाई गई अग्‍न‍िपथ स्‍कीम के विरोध में बिहार में हुए उग्र प्रदर्शन के बाद एनडीए में घमासान जारी है. बीजेपी ने एक बार फिर जदयू पर सवाल उठाया है. बीजेपी के प्रदेश अध्‍यक्ष संजय जायसवाल ने शिक्षा विभाग पर सवाल उठाया है. जिसके बाद जदयू की ओर से लगातार हमला जारी है. जदयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा के बाद जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने अब संजय जायसवाल पर पलटवार किया है. उन्होंने कहा कि बीजेपी प्रदेश अध्‍यक्ष किस पर उठा रहे हैं. उनको इसका जवाब देना चाहिए.

जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि कहीं पे निगाहें कहीं पर निशाना, इतना तो सामान्य जानकारी होगी ही. विश्वविद्यालय शिक्षा का नियंत्रण कुलपति के पास होता है. उन्होंने कहा कि उच्च शिक्षा के सत्र को नियमित करना राज्य सरकार के अधिकार क्षेत्र में नहीं है, इस मामले को लेकर अधिकारी और मंत्री लगातार प्रयास कर रहे हैं. संजय जायसवाल के आरोप पर नीरज कुमार ने कहा कि जो लोग ये सवाल उठा रहे हैं. वो क्या विश्वविद्यालय के कुलपति अथवा कुलपति कार्यालय पर सवाल उठा रहे हैं. अथवा केंद्र सरकार की अनुशंसा पर नियुक्ति की जाती है या जिनके द्वारा नियुक्ति होती है. क्या उनके मंसूबे पर सवाल उठा रहे हैं. ये तो सवाल उठाने वाले को इसका जवाब देना चाहिए.

इससे पहले संजय जायसवाल के आरोप पर उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि क्या टिप्पणी रोज की जाए. शिक्षा विभाग में विभिन्न यूनिवर्सिटी में सेशन लेट है. इसका कारण सब लोगों को मालूम है और सरकर की ओर से कितनी कार्रवाई की जा रही है यह भी सब लोगों को मालूम है. उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी में सेशन लेट है, ऐसे मामलों में राज्य की भूमिका ज्यादा नहीं होती है. पढ़े लिखे लोगों को यह बात मालूम है आम लोगों को भले ही लगता हो कि यूनिवर्सिटी मतलब राज्य सरकार. राज्य के युवाओं को भ्रमित करने का प्रयास किया जा रहा है. इस सवाल पर उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि राज्य के युवा बहुत होशियार हैं, बहुत तेज हैं. उनको कोई भ्रमा नहीं सकता है. साथ ही कुशवाहा ने कहा कि इस पर ज्यादा क्या कहा जाए किसी को भी सोच समझकर बयान देना चाहिए.

बता दें कि संजय जायसवाल ने शिक्षा विभाग पर सवाल उठाते हुए कहा कि 3 साल में ग्रेजुएशन पूरा होना चाहिए. उन्होंने स्नातक सत्र रेगुलर करने की मांग की है. शिक्षा मंत्रालय जदयू के पास है. सेशन की देरी पर उनको ध्यान देना चाहिए. दरअसल इस समय बिहार के शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी हैं. जो जदयू के सीनियर नेता हैं. वहीं अग्निपथ योजना पर जदयू के नेताओं ने केंद्र सरकार को विचार करने को कहा है. जिस पर संजय जायसवाल ने कहा कि अग्निपथ पर जदयू की मांग बेतूका है. संजय जायसवाल ने कहा कि मुझे तो हंसी आ रही है कि जदयू के लोग कह रहे हैं कि अग्निपथ स्कीम पर पुनर्विचार करना चाहिए. शिक्षा जदयू के पास है पहले तो उनको विचार करना चाहिए कि तीन साल में ग्रेजुएशन पूरा हो.