UPDATE : मुखिया आभा देवी के भाई बबलू सिंह की हत्या के पीछे रुपये का लेन-देन

मृतक बबलू सिंह का फाइल फोटो, दाएं रोते-बिलखतीं घर की महिलाएं.

लाइव सिटीज पटना/ फुलवारीशरीफ (अजीत कुमार) : महंगूपुर में गोनपुरा मुखिया आभा देवी के भाई बबलू सिंह की हत्या में रुपये के लेन-देन का मामला सामने आ रहा है. सुबह करीब सात साढ़े सात बजे हुई हत्या की वारदात के बाद लोगों का आक्रोश थमने का नाम नहीं ले रहा था. फुलवारी व जानीपुर नौबतपुर थाने की पुलिस के साथ रैपिड एक्शन फोर्स को हंगामे को शांत कराने के लिए मौके पर बुलाना पड़ा. करीब पांच घंटे बाद पुलिस अफसरों के समझाने, हत्यारे की जल्द गिरफ्तारी का आश्वासन मिलने पर लोग शांत हुए और शव को कब्जे में करके पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया.

उधर हत्यारे संटू के घर उसके वृद्ध पिता महानंद सिंह का शव दाह संस्कार के लिए पड़ा था. उनके 85 वर्षीय पिता का निधन बीमारी की वजह से आज सुबह ही हुआ है. ऐसे में संटू के घर पर भी मातम और चीत्कार का माहौल था. हालांकि लोगों को अब तक यह नहीं समझ में आ रहा है कि संटू अपने पिता महानंद सिंह की डेडबॉडी को छोड़ बबलू सिंह की हत्या करने क्यों चला गया.

मृतक के परिजनों में मचा कोहराम.

उधर पुलिस को परिजनों ने बताया है कि बबलू सिंह अपने घर के बाहर बैठे थे, तभी महानंद सिंह का बेटा संटू-मंटू अपने साथियों के साथ पहुंचा और उसकी हत्या कर दी. बता दें कि बीती रात महंगूपुर गांव में नाच का कार्यक्रम भी हुआ था और इस दौरान नाच में अश्लील गानों की फरमाइश पर जमकर हवाई फायरिंग भी हुई थी. हालांकि फायरिंग की पुष्टि कोई नहीं कर रहा है.

मृतक के घर पर जुटी भीड़.

घटना के बारे में मिल रही जानकारी के अनुसार एनएच 98 पर महंगूपुर में बबलू सिंह को उसके घर के पास ही बाइक सवार युवक ने गोलियों से भून डाला और हथियार चमकाते हुए फरार हो गया. बताया जाता है कि वेंकटेश शर्मा के बेटे बबलू सिंह अपने घर के पास कुछ ग्रामीणों से बात कर रहे थे, तभी घटना को अंजाम दिया गया. गांव के युवक संटू पर हत्या का आरोप लगाया गया है. संटू टेंपो चालक है. ग्रामीणों की मानें तो बबलू सिंह का महानंद के बेटे से रुपये का लेन देन का मामला भी चल रहा था. पुलिस मामले की छानबीन कर रही है. आरोपी अभी गिरफ्तार नहीं हुआ है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*