बिहार में इंटर की प्रायोगिक परीक्षा देने वाले इन बातों का रखें ध्‍यान, नहीं तो पछताना पड़ेगा

लाइव सिटीज कैमूर/भभुआ(ब्रजेश दुबे): बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा आयोजित इंटर की प्रायोगिक परीक्षा में बिना कोविड टीकाकरण के परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं मिलेगी. इस बारे में जिला शिक्षा पदाधिकारी विजय प्रसाद ने आवश्यक दिशा निर्देश जारी किया है.

15 से 18 आयु वर्ग के सभी छात्र छात्राओं का कोविड टीकाकरण कराने के लिए सभी स्कूल कॉलेज के प्रधानाचार्य, कोचिंग संस्थानों के प्रबंधक और निजी विद्यालयों के प्रबंधक को निर्देशित किया गया है. जिसमें कहा गया है कि इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा 2022 की प्रायोगिक परीक्षा 10 जनवरी से 20 जनवरी की अवधि में सभी इंटर स्तरीय विद्यालय एवं उच्च माध्यमिक विद्यालयों में आयोजित हो रही है.

सभी प्रधानाध्यापक और केंद्र अधीक्षक को निर्देश दिया गया है कि प्रायोगिक परीक्षा में भाग लेने वाले सभी छात्र छात्राओं का टीकाकरण कराने के उपरांत ही परीक्षा में शामिल कराया जाए. इसके लिए सभी प्रधानाध्यापकों को प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारी से समन्वय स्थापित कर सभी छात्र छात्राओं का टीकाकरण सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया है.

सभी संबंधित विद्यालयों महाविद्यालयों के प्राचार्य 22 जनवरी तक संबंधित प्रखंड के प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी के यहां यह प्रमाण पत्र जमा करना है कि मेरे विद्यालय, महाविद्यालय के 15 से 18 आयु वर्ग के प्रायोगिक परीक्षा में शामिल होने वाले विद्यार्थियों, नामांकित छात्र छात्राओं का टीकाकरण कराया जा चुका है.

इस आधार पर समीक्षा के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी. जिले के सभी निजी विद्यालयों के प्रबंधक और प्रधानाध्यापकों को निर्देश दिया गया है कि 15 से 18 आयु वर्ग के सभी बच्चों का टीकाकरण 21 जनवरी तक कराना सुनिश्चित करेंगे.